Published On : Thu, Nov 30th, 2017

कोयला मजदूरों से माफ़ी मांगे बीएमएस-सीटू


नागपुर/कन्हान: कन्हान स्थित जेएनएच के इंटक अध्यक्ष अमज़द आर. खान ने बीएमएस-सीटू से आव्हान किया है कि वे कोल इंडिया को पत्र लिखकर ‘यू टर्न’ लेने के पूर्व देश के कोयला खदानों के मजदूरों से माफ़ी मांगे. उक्त दोनों यूनियन के महामंत्रियों ने २६ नवम्बर २०१७ को पत्र लिखकर यह बताने की कोशिश की हैं कि उन्होंने १०वें वेतन समझौते पर अनभिज्ञता या अनजाने में कर दी है.

सीआईएल व एमओसी की मंशा साफ़ ‘वीकली डे ऑफ़ रेस्ट ऑफ माइन’ के दिन काम करने वाले मजदूरों को ‘डबल ऑफ नार्मल वेजेस’ न देना पड़े. इस सम्बन्ध में इंटक नेता द्वय राजेंद्र प्रसाद सिंह व एस क्यू ज़मा ने समय-समय पर कोल इंडिया आदि को पूर्ण जानकारी देते रहे हैं. आयटक अभी भी अपने यूनियन के निर्णय लेने में दुविधा में है.

खान के अनुसार आयटक,बीएमएस व सीटू १०वें वेतन समझौते पर किए गए हस्ताक्षर पर समीक्षा करें क्योंकि समझौते में त्रुटियां व ढांचागत परिवर्तन की जरूरत महसूस की जा रही है, इंटक ने उक्त यूनियन के हस्ताक्षर के खिलाफ इंटक ने १८ अक्टूबर २०१७ को जारी परिपत्रक में किया था. इंटक के मजदूर हित में गंभीर पहल पर कोलकत्ता स्थित कोल इंडिया मुख्यालय में मामला लंबित हैं.