Published On : Fri, Nov 17th, 2017

अटल के बाद मोदी सरकार का इकोनॉमी में जलवा, 13 साल बाद मूडीज ने बढ़ाई रेटिंग

अंतरराष्ट्रीय क्रेडिट रेटिंग एजेंसी द मूडीज ने शुक्रवार को ताजा रेंकिंग जारी की है। मूडीज ने भारत की रेटिंग में बदलाव करते हुए नियंत्रित और पॉजिटिव आउटलुक रखते हुए Baa3 से घटाकर Baa2 कर दी है। विश्व बैंक द्वारा भारत की रेटिंग बढ़ाने के बाद केंद्र सरकार द्वारा उठाए जा रहे आर्थिक सुधारों को इंटरनेशनल रेटिंग एजेंसी मूडीज ने भी सराहा लिया है। 13 साल बाद मूडीज ने भारत की रेटिंग को बढ़ा दिया है। इससे पहले अटल बिहारी बाजपेयी की सरकार में मूडीज ने रेटिंग में इजाफा किया गया था।

सरकार की रेटिंग अपग्रेड की तमाम कोशिशें सफल होती हुई दिखाई दे रही हैं। मूडीज ने कहा है कि भारत सरकार की नीतियों का असर भारतीय अर्थव्यवस्था पर दिखाई देने लगी है। भारतीय अर्थव्यवस्था में टिकाऊ ग्रोथ और कर्ज में कमी देखी गई है जिसका ठोस असर उसकी जीडीपी पर पड़ा है।

एजेंसी ने भारतीय विदेशी मुद्रा बॉन्ड की रेटिंग में इजाफा करते हुए Baa2 से घटाकर Baa1 कर दी है। मूडीज की ताजा रेंटिंग विश्व बैंक की कारोबार करने में सहूलियत ‘ईज ऑफ डूइंग बिजनेस’ की रिपोर्ट के कुछ दिन बाद आई है। ईज ऑफ डूइंग बिजनेस में भारत की रैंकिंग में जबरदस्त 30 पायदान का सुधार हुआ है। इस साल की रिपोर्ट में भारत दुनिया भर के 189 देशों में 100वां स्थान हासिल किया है।

सबका साथ-सबका विकास का नारा हुआ बुलंद

मूडीज द्वारा रेटिंग बढ़ाने के बाद ट्विटर पर सरकार को बधाईयों का तांता लग गया है। रेल मंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि मूडीज द्वारा रेटिंग बढ़ाने से पीएम के सबका साथ-सबका विकास के नारे को पूरा विश्व भी मानने लगा है।

वित्त मंत्रालय में राजस्व सचिव हसमुख अढ़िया ने कहा कि सरकार ने जो रास्ता लांग टर्म रिफॉर्म के लिए चुना है, उसको निवेशक पहले से मानने लगे हैं। अब मूडीज ने भी रेटिंग में इजाफा करके सरकार के फैसलों पर मुहर लगा दी है।