Published On : Sat, Sep 22nd, 2018

मोदी की छद्म राष्ट्रवादी सरकार ने किया देश के इतिहास में सबसे बड़ा रक्षा सौदा घोटाला

नागपुर: फ़्रांस के साथ भारत द्वारा किये गए राफेल लड़ाकू विमान सौदे घोटाले में फ़्रांस के पूर्व राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद का बयान आने के बाद सरकार पर विपक्ष द्वारा लगाए जा रहे आरोपों को बल मिला है। शनिवार को आम आदमी पार्टी के वरिष्ठ नेता और सांसद संजय सिंह ने फिर इस आरोपों को लेकर मोदी सरकार की नीयत पर सवाल खड़े किया। नागपुर में पत्रकारों से बात करते हुए सिंह ने कहाँ की फ़्रांस के पूर्व राष्ट्रपति के बयान के बाद यह पूरी तरह स्पस्ट है की राफेल विमान सौदे को लेकर सरकार ने घोटाला किया है।

यह घोटाला भारत माता जय का नारा लगाने वाली और छद्म राष्ट्रवादी सरकार,मोदी सरकार के राज में हुआ है। बोफोर्स का घोटाला महज 64 करोड़ रूपए का था जिसने तत्कालीन सरकार को हिला दिया था ये घोटाला तो इतिहास में रक्षा सौदे में 36 हजार करोड़ का सबसे बड़ा घोटाला है। सिंह के मुताबिक इस घोटाले पर उठ रहे सवाल पर सरकार और खुद रक्षा मंत्री गोलमोल जवाब दे रही है।

450 करोड़ के विमान को 1670 करोड़ में ख़रीदा गया। सरकार ने विमान को महँगी कीमत में खरीदने पर कहाँ था की पिछले सौदे से अलग इस नए सौदे में जो विमान ख़रीदे जा रहे है उसमे अन्य तकनीकी फ़ीचर को जोड़ा गया है। मगर अब सौदे के वक्त फ़्रांस के पूर्व राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संयुक्त बयान का हवाला देते हुए सिंह ने कहाँ की, वह सार्वजनिक बयान सबके सामने है जिसमे ख़ुद फ़्रांस के राष्ट्रपति कह रहे है की पुराने सौदे के हिसाब से ही विमानों की आपूर्ति की जा रही है।

यह बयान बताता है की सरकार झूठ बोल रही है और हालिया बयान सरकार की नीयत पर ही सवाल उठता है। भारत सरकार 78 साल सरकारी अनुभवी कंपनी को दरकिनार कर 12 दिन पहले बनी अनिल अंबानी की कंपनी से समझौता करने को कहती है। यूपीए के दौरान जो सौदा हुआ था उसके मुताबिक देश को 126 विमान मिलने थे जिसमे से 18 फ़्लाइंग हालत में मिलने वाले थे जबकि बांकी का निर्माण देश में ही किया जाना था। पिछली सरकार के सौदे को रद्द करते हुए मोदी सरकार ने यह दलील दी की राफेल विमान की वायुसेना को तत्काल आवश्यकता है। लेकिन हमारी पार्टी ने जब संसद में सरकार से पूछा की विमान भारत को कब तक मिल पाएंगे तो रक्षा मंत्री ने ज़वाब दिया की जनवरी 2019 से डिलीवरी शुरू होगी जो 2022 तक जारी रहेगी। सरकार का यह जवाब बताता है की वायुसेना को इस विमान की फ़ौरन आवश्यकता है ही नहीं।

सिंह ने कहाँ देश जाना चाहता है की आम आदमी के करदाताओं के 36 हजार करोड़ रूपए कौन खा गया,इसे मोदी ने खाया,अंबानी ने खाया या पैसा पार्टी फंड में गया। इस घोटाले को लेकर संसद की संयुक्त समिति का गठन किया जाना चाहिए जो मामले की जाँच करे। ये सरकार विपक्ष से उठने वाली आवाजों को दबाने का काम करती है। राफेल विमान सौदे को लेकर जब मैंने सवाल उठाया तो मुझ पर पांच हजार करोड़ का मानहानि का मुकदमा किया गया। हम अदालत में जाकर सबूतों के साथ पक्ष रखेंगे। सिंह के मुताबिक अब जमाना बदल चुका है इस मुद्दे को लेकर सोशल मीडिया में बहस हो रही है जनता सभी के पक्ष को ध्यान से समझ रही हैं।


सरकार से पूछे तीन सवाल
-540 करोड़ का विमान 1670 करोड़ में क्यूँ ख़रीदा गया।
-देसॉल्ट के साथ 12 दिन पुरानी कंपनी का समझौता क्यूँ कराया गया।
-देश की अनुभवी सरकारी कंपनी एचसीएल (हिंदुस्तान एरानोटिकल्स कंपनी) को नजरअंदाज क्यूँ किया गया।

पकौड़ा योजना के बाद मोदी सरकार ने शुरू की भगोड़ा योजना
सिंह ने कहाँ माल्या के मामले में भी देश की सरकार और वित्तमंत्री झूठ बोल रहे है। आरोपी खुद दावा कर रहा है की उसने मुलाकात की थी। संसद भवन में लगे सीसीटीवी की जाँच से सारी बातें स्पस्ट हो जाएगी। माल्या के मामले में देश की प्रमुख सरकारी बैंक एसबीआई के अलावा अन्य सरकारी एजेंसिया लापरवाह बनी रही। सब तब तक शांत रहे जब तक माल्या अपनी 36 बैग से साथ भाग नहीं गया। 29 जुलाई 2015 को उस पर मामला दर्ज होता है। 16 अक्टूबर से 30 नवंबर के बीच उसके ख़िलाफ़ लुक आउट नोटिस जारी होता है। जिसे बदलकर बाद में इन्फॉर्मेशन नोटिस कर दिया जाता है। 9 हजार करोड़ के बैंक घोटाले मामले में सरकार की विभिन्न एजेंसियों का रवैय्या भी संदेह के दायरे में है।

बीजेपी में उठ रही सच की आवाज हम दे रहे है साथ
शनिवार को संजय सिंह बीजेपी विधायक आशीष देशमुख के कार्यक्रम में शिरकत की इस दौरान उन्होंने बीजेपी के सांसद शत्रुध्न सिन्हा के साथ मंच साझा किया। सिन्हा और देशमुख दोनों अपनी ही सरकार के ख़िलाफ़ बोल रहे है। इस कार्यक्रम में हिस्सा लेने पर सिंह ने कहाँ बीजेपी के भीतर सच की आवाज उठ रही है जिसका साथ देने के लिए मैं आया हूँ। सिन्हा इससे पहले आप के कई कार्यक्रमों में जा चुके है।

आप ने जनभावना को उम्मीद से अधिक पूरा किया
पत्रकारों से बात करते हुए आप सांसद संजय सिंह ने कहाँ आम आदमी पार्टी का जनाधार देश भर में बढ़ रहा है। पार्टी आगामी तीन राज्यों मध्यप्रदेश,छत्तीसगढ़ और राजस्थान में चुनाव लड़ने वाली है। इसके अलावा लोकसभा चुनाव में करीब 100 सीटों पर चुनाव लड़ा जायेगा। अपनी स्थापना के महज पांच वर्ष वर्ष के भीतर पार्टी के लोकसभा में 4 राज्यसभा में 3 सांसद है। इसके अलावा दिल्ली में दो बार सरकार बनी। अपने कार्यकाल के दौरान आप ने जन भावनाओं को उम्मीद से अधिक पूरा किया है। बिजली,पानी,शिक्षा के क्षेत्र में अभूतपूर्व कार्य हुआ है। दिल्ली में होम डिलीवरी सेवा शुरू की गई है जल्द राशन को भी घर में पहुँचाने का प्लान है।

कांग्रेस को अपनी सोच व्यापक करनी होगी
सिंह के मुताबिक लोकतंत्र में विपक्ष की भूमिका महत्वपूर्ण है। विपक्ष का मजबूत होना भी जरुरी है। वर्त्तमान समय में मोदी और बीजेपी से लड़ने के लिए विपक्ष का संगठित होना जरुरी है। कांग्रेस को सबको साथ में लेने के लिए अपनी सोच को व्यापक करना होगा जिसका अभी आभाव है। कर्नाटक में इसका अनुभव भी हो रहा है। छत्तीसगढ़ में बीएसपी अजित जोगी के साथ चुनाव लड़ रही है जिसका फायदा बीजेपी को ही होगा। विपक्ष को एकजुट रखना होगा इसके लिए कांग्रेस को अपना दिल भी बड़ा करना होगा।