Published On : Tue, Nov 28th, 2017

Video: खतरों से खेल कोयला उत्पादन कर रहे मजदूर की दुर्घटना में मृत्यु


नागपुर/चंद्रपुर: वेकोलि के माजरी क्षेत्र की तेलवासा खुली खदान में 45 फुट ऊंचाई से गिरने से कोयले की ढेर के नीचे दबकर शुक्रवार रात को एक 45 वर्षीय मजदूर की मृत्यु हो गई। खदान की वर्तमान स्थिति के मद्देनजर डीजीएमएस ने कई महीने पूर्व खदान बंद करने के निर्देश दिए थे, जिसे वेकोलि प्रबंधन ने सिरे से नज़रअंदाज कर कोयला उत्पादन का कार्य जारी रखा था।

मृतक निरसु झा इस खदान में कुछ मजदूरों के साथ काम कर रहे थे, तभी ऊपर से कोयले का ढेर आकर नीचे गिरा। जिससे झा दब गया और घटनास्थल पर उसकी मृत्यु हो गई। साथ के 2 अन्य मजदूर घायल हो गए। तब खदान में 500 से अधिक कर्मी उत्पादन आदि कार्य कर रहे थे। डीजीएमएस के निर्देशों के बाद कार्यरत सैकडों कर्मचारी खदान की दयनीय अवस्था देख उचित सुरक्षा मुहैय्या करवाने की मांग भी कर चुके थे। लेकिन वेकोलि प्रबंधन ने डीजीएमएस के साथ कामगारों की जायज मांग को नाकार कर उत्पादन कार्य जारी रखा।


शुक्रवार रात तेलवासा खदान में ब्लास्ट किया गया था। मिट्टी के ढेर हटाने के पूर्व ही वहां कोयला उत्पादन का कार्य शुरू किया गया, तभी यह हादसा हुआ। घटना के दो सप्ताह पूर्व शर्मा नामक मजदूर एक अन्य हादसे में घायल हो गया था। वेकोलि में प्रत्येक वर्ष सुरक्षा सप्ताह का आयोजन कर बड़े बड़े निर्देश वेकोलि प्रबंधन अपना वर्षों से सुरक्षा के मानकों को अमल में नहीं लाते।

उल्लेखनीय है कि उक्त घटना की सम्पूर्ण जिम्मेदारी खदान प्रबंधक, वेकोलि निदेशक और अध्यक्ष सह प्रबंधक की होनी चाहिए। इस मामले को लेकर वेकोलि में सक्रिय सभी यूनियन की चुप्पी प्रबंधन को समर्थन प्रदान कर रही है। इस घटना की कोयला मंत्रालय के मार्फत स्वतंत्र जांच समिति के माध्यम से जांच करने और सभी जिम्मेदार अधिकारियों को निलंबित करने के साथ ही साथ इस खदान को सुरक्षा के पुख्ता इंतेजाम किये जाने तक बंद रखा जाए।