Published On : Mon, Nov 1st, 2021

माही गुरूजी व PM मोदी की मुलाकात व चर्चा

– दोनों देशों के आपसी समन्वय से आयुर्वेद को बढ़ावा देने की मांग मोदी से माही गुरूजी ने की

नागपुर : PM नरेंद्र मोदी विगत दिनों इटली के दौरे पर गए थे,जहाँ उनका भारतीय मूल के नागरिकों सह साधु-संतों ने गर्मजोशी से मंत्रोच्चार कर स्वागत किया।इन भारतीय मूल के नागरिकों का नेतृत्व नागपुर में जन्में-पले-शिक्षित हुए माही गुरूजी ने किया।इस स्वागत सत्कार के दौरान मोदी पुरे समय तक हाथ जोड़े खड़े रहे.

मन्त्रोच्चार बाद माही गुरूजी ने PM मोदी को अपना परिचय मराठी में देते हुए कहा कि वे मूल रूप से नागपुर के हैं.उन्होंने आगे कहा कि वे 25 वर्ष पूर्व इटली आये थे,वे यहाँ योग और आयुर्वेद आदि की शिक्षा देने के साथ उसका प्रचार-प्रसार भी कर रहे हैं.इस चर्चा के दौरान मोदी ने उनका अभिवादन भी मराठी में किया।


अंत में माही गुरूजी ने PM मोदी से मांग की कि दोनों देशों के आपसी समन्वय से यहाँ आयुर्वेद को बढ़ावा देने में सहयोग/पहल करें।
याद रहे कि माही गुरूजी यूरोप में आध्यात्मिक गुरु के रूप में काफी प्रसिद्द हैं.

जब वे नागपुर में पले-बढ़े तो उनका नाम महेंद्र सिरसाट था,उनकी पढाई लिखाई नागपुर में ही हुई.उनका रहना सीताबर्डी पुलिस थाने के भीतर पुलिस क्वार्टर में था,उनके परिजन पुलिस में थे.वे 25 वर्ष पूर्व इटली गए थे,जहाँ उन्हें वहां योग,आयुर्वेद और भारतीय संस्कृति का प्रचार-प्रसार करने की प्रेरणा मिली,तब से वे इटली में रच-बस गए.

कोविड काल में सम्पूर्ण इटली कोरोना से ग्रषित था,लेकिन माही गुरूजी के संसर्ग में रहने वाले वहां के नागरिक कोरोना से मुक्त रहे.