Published On : Wed, Mar 8th, 2017

महापौर, महिला दिवस और मनपा की अस्वच्छ ‘हरियाली’


नागपुर:
 केंद्र की भारतीय जनता पार्टी नीत एनडीए की सरकार सम्पूर्ण देश में स्वच्छ्ता अभियान को लेकर आये दिन नए-नए प्रयोग सह उपाययोजना कर रही है। सरकार की पहल को सकारात्मक रूप से अमलीजामा पहनाने के लिए नागपुर महानगर पालिका आयुक्त और मनपा प्रशासन शहर को स्वच्छ व कचरा मुक्त करने के लिए दिन-रात मेहनत कर रहे हैं, वहीं दूसरी ओर केंद्र के सत्ताधारी पक्ष की मनपा में सत्ता है। मनपा समाजकल्याण विभाग ने बड़े जोरशोर से आज विश्व महिला दिवस का आयोजन मनपा मुख्यालय के हरियाली पर किया। इस कार्यक्रम में नवनिर्वाचित महापौर सह अधिकांश महिला नगरसेविका सहित मनपा की महिला कर्मी उपस्थित रहीं।

कार्यक्रम के दौरान नवनिर्वाचित महापौर सह सभी वक्ताओं ने महिला उत्थान सह महिला हितार्थ लंबे-लंबे भाषण देकर वाहवाही लूटी। कार्यक्रम समापन के बाद सभी उपस्थित महिलाओं को उच्च दर्जे के नाश्ते के डिब्बे सह बोतलबंद पानी सहित अन्य जरुरी सामग्री दी गई। इन महिलाओं ने नाश्ते खाकर, पानी की बोतल से पानी पीकर, मिले अन्य पैकेट से सामान निकालकर बचे कचरे को वही फेंक कर अपने-अपने गंतव्य स्थान की ओर रवाना हो गए। मनपा मुख्यालय की इस हरियाली को आजतक किसी ने इतना गंदा नहीं किया कि जितना आज किया गया। इस गंदगी से कुछ लोग पानी की बोतल तो कोई भूखा खाने के सामान चुनते नज़र आये। आसपास के आवारा जानवर भी देखे गए, लेकिन इस गंदगी को देखकर परिसर में भटक रहे अधिकारी, समाजकल्याण विभाग, स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के कानों पर जूं तक नहीं रेंगी, कि फ़ौरन साफ़ सफाई करवाई जाए।


उल्लेखनीय तो यह रहा कि पदग्रहण के बाद नवनिर्वाचित महापौर के जेहन में भी कार्यक्रम समाप्ति पश्चात परिसर स्वच्छ करने का ध्यान नहीं रहा। यह चिंतनीय है। उनसे तो कम से अपेक्षा थी क्योंकि वह खुद महिला हैं। ऐसे में मनपायुक्त के सकारात्मक पहल का भविष्य खतरे में नज़र आ रहा है।