Published On : Thu, Mar 19th, 2020

मनपा परिवहन बजट (2020-21) स्थाई समिति के सुपुर्द

304 करोड़ की आय व उसी प्रमाण में खर्च युक्त बजट परिवहन सभापति बाल्या बोरकर ने पेश की

नागपुर – मनपा परिवहन समिति सभापति ने आज गुरुवार की दोपहर परिवहन विभाग की वर्ष 2020-21 के लिए 304 करोड़ की प्रस्तावित बजट स्थाई समिति सभापति पिंटू झलके के मार्फत समिति को सुपुर्द की।इसके उपरांत परिवहन समिति सभापति बोरकर ने उपस्थितों को जानकारी दी कि वर्ष 2020-21 में परिवहन सेवा से 303 करोड़ 90 लाख की आय होने की उम्मीद व्यक्त की गई और मार्च 21 तक 304 करोड़ 17 लाख रुपये खर्च होंगी व 16.42 लाख शेष बचेंगा।

वर्तमान आर्थिक वर्ष में मनपा परिवहन विभाग के मार्फत 95 स्टैंडर्ड,100 रूपांतरित सीएनजी बसें,150 मिडी,45 मिनी 5 महिला स्पेशल तेजस्विनी सहित 40 इलेक्ट्रिक बसों याने कुल 436 बसें नागरिकों को सेवाएं देंगी। वाठोडा में 10.80 एकड़ जगह पर नई बस डिपो निर्माण के लिए 56.60 ख़रीद का प्रोजेक्ट तैयार किया गया हैं। इस बजट में तीनों बस डिपो को मरम्मत व विकसित करने के लिए 30 करोड़ का प्रावधान किया गया। फेम-2 अंतर्गत मनपा को मिलने वाली इलेक्ट्रिक बसों के लिए चार्जिंग स्टेशन निर्माण,वर्कशॉप,पार्किंग व्यवस्था के लिए 30 करोड़ रुपये की अतिरिक्त मांग की गई।

फेम के तहत मिलने वाली 40 इलेक्ट्रिक बसों की जीएसटी व पंजीयन शुल्क के लिए 20 करोड़ का प्रावधान किया गया। मोर भवन का अतिरिक्त जगह पर डिपो निर्माण के लिए 1.55 करोड़ का प्रावधान किया गया। खापरी डिपो को विकसित करने के लिए 42.38 लाख,यहीं पर पुरानी इमारत की मरम्मत के लिए 41.23 लाख रुपए का प्राकलन तैयार किया गया हैं। 237 स्टैंडर्ड बसों को सीएनजी में तब्दील करने के लिए रॉ मेट इंड्रस्ट्रीज को खापरी डिपो और वाड़ी डिपो पर जगह किराये पर दिया गया हैं। अबतक 50 डीज़ल बसों को सीएनजी में तब्दील किया गया हैं।

बस यात्रियों को पीने के पानी सुविधा के लिए इस आर्थिक वर्ष में 1 करोड़ का प्रावधान किया गया। पिछले 2 आर्थिक वर्ष में मेसर्स साइन पोस्ट ने बीओटी के तर्ज पर 158 पुराने व 197 में से 78 नए पद्दत के बस स्थानक का निर्माण किया,जिस पर विज्ञापन लगाए,इसकी रॉयल्टी के रूप में परिवहन विभाग को 35.77 लाख रुपए आय हुए। इस आर्थिक वर्ष में शहर के प्रमुख बस स्थानकों पर ‘स्पॉट टिकट बुकिंग’ के लिए कंडक्टर स्टॉफ कंडक्टर एजेंसी नियुक्ति की मंशा जताई गई। इसी तरह ‘वन डे’ पास की भी सुविधा उपलब्ध करवाई जाएगी। बजट में बसों को खड़ी करने व जहां बस रुकेंगी वहां ‘बस स्टॉप’ फलक लगाने के लिए 1 करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया हैं।

शहर के बड़े बस स्थानकों पर पुराने जर्जर बसों को ई-शौचालय के रूप में तैयार कर उपयोग में लाने के लिए महापौर निधि से फिलहाल 2 बसों को रूपांतरित करने के लिए पुणे भेजे गए। इस अवसर पर उपायुक्त व ट्रांसपोर्ट प्रबंधक राजेश मोहिते,परिवहन व्यवस्थापक पागे, सभापति सहायक लुंगे, लोककर्म अधिकारी मिश्रा सह स्थाई समिति व परिवहन समिति के सभी सदस्य उपस्थित थे।