Published On : Mon, Jun 15th, 2020

योग व प्राणायाम को बनाए जीवन का अभिन्न अंग

– योग्य मार्गदर्शन से करें मास्क का इस्तेमाल

नागपुर: कोरोना के बढ़ते संक्रमण ने जीवन की मुश्किलें बढ़ा दी हैं। मास्क लगाने को लेकर भी भ्रामक प्रचार हो रहा है। ऐसे में मास्क लगाना या नहीं इस पर भ्रम है। खासकर जब आप मॉर्निंग वॉक पर हों तो मास्क को थोड़ा ढीला कर देना चाहिए ताकि आप श्वास आसानी से ले सके। लेकिन यदि आप भीड़ में चल रहे है तो मास्क जरूर पहने। प्रयास करे वॉक खाली जगह पर करें। उसी तरह आप योग, प्राणायाम व व्यायाम कर रहे हों तब मास्क का इस्तेमाल न करें। मास्क के टाईट होने से कभी-कभी मुश्किल पड़ सकती है।

बहुत जरूरी हो तो एन 95 मास्क लगाएं, ताकि उसमें से हवा पास होती रहे। इन बातों का ध्यान रखें। शरीर में ऑक्सीजन की कमी होने से घबराहट होती है। ऐसे में आप योग, प्राणायाम को अपने जीवन का हिस्सा बनाए।

कोरोना संक्रमण को लेकर लोग घबराए हैं। ऐसे में अकेले कार में सफर करने के दौरान भी मास्क लगाते हैं। यही नहीं घर पर भी अकेले रहने में मास्क का इस्तेमाल कर रहे हैं। ऐसे में आप अपने फैमिली डॉक्टर से सलाह लेकर कैसा मास्क पहनना है इसकी पुष्टि कर उनके दिशा निर्देशों का पालन कर मास्क पहने।

सामान्यता भीड़भाड़ वाले इलाकों में जाते समय ही मास्क लगाए। शरीर में कमजोरी महसूस होने पर तत्काल मास्क को हटा दें। घर में शारीरिक दूरी रखें, लेकिन मास्क न लगाएं। लेकिन घर में यदि कोई व्यक्ति सर्दी, खांसी, जुकाम या बुखार हो तो घर पर भी मास्क का उपयोग करें व दूरी बनाए रखे। सामाजिक दूरी न बनाते हुए शारीरिक दूरी बनाने पर विशेष ध्यान दें। वैसे भी वातावरण में अनेक कीटाणु होते है मास्क हमें इन बाकी कीटाणुओं से भी सुरक्षित रखने में मदद करेगा। सबसे महत्वपूर्ण बात यह कि आप अपने हाथो को बार बार अपने मुंह, नाक व आंखो पर लगाने से बचे। जब भी लगाना है तो उससे पहले हाथ धो ले या फिर सेनेटाइज कर ले। मास्क पहनने से आप किसी कठिनाई का अनुभव कर रहे है तो अपने चिकित्सक से संपर्क करें।


बच्चों को मास्क लगाते समय विशेष सावधानी बरते। बच्चे यदि मास्क से तकलीफ़ हो रही है तो आपका बताने में असमर्थ होते है, ऐसे में पालकगण स्वयं निगरानी रखे कहीं बच्चो को श्वास लेने में तकलीफ़ तो नहीं हो रही। सड़क किनारे मिलने वाले मास्क को पहले अच्छे से धो ले तभी उसका प्रयोग करें।