Published On : Wed, Sep 4th, 2019

महावितरण ने दिये 44 बेरोजगार इंजीनियरों को लॉटरी पद्धती से काम

नागपुर: महावितरण ने बेरोजगार विद्युत इंजीनियरों को लॉटरी पद्धती में सीधी प्रतिस्पर्धा के बिना विद्युत कार्य प्रदान करने की नीति के अनुसार, नागपुर शहर मंडल के तहत 44 बेरोजगार विद्युत इंजीनियरों को लगभग 3.7 करोड़ के काम आवंटित किए गए हैं।

बुधवार (4 सितंबर) को महावितरण के प्रकाश भवन में आमंत्रित बेरोजगार इंजीनियरों की उपस्थिति में लॉटरी का ड्रा किया गया था, जिसमें वितरण फ्रेंचाइजी क्षेत्र में छह काम, कांग्रेसनगर विभाग में 20 और बुटिबोरी विभाग में 18 काम शामिल हैं। महावितरण के नागपुर क्षेत्र के प्रभारी क्षेत्रीय निदेशक तथा नागपुर परिमंडल के मुख्य अभियंता दिलीप घुगल के मार्गदर्शन में आज उपस्थित 44 बेरोजगार इंजीनियरों को लगभग 3.7 करोड़ का काम आवंटित किया गया। इस अवसर पर महावितरण के नागपूर मंडल के अधीक्षक अभियंता दिलीप दोडके, कांग्रेसनगर विभाग के कार्यकारी अभियंता कुंदन भिसे, बुटिबोरी विभाग के कार्यकारी अभियंता दिलीप घाटोल, कार्यकारी अभियंता (प्रशासन) विनोद सोनकुसारे के साथ बड़ी संख्या में अधिकारियों और इंजीनियरों उपस्थित थे।

यह बिना किसी प्रतिस्पर्धा के प्रत्यक्ष लॉटरी तरीके से 10 लाख तक के काम इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग विभाग में डिग्री या डिप्लोमा धारक बेरोजगार इंजीनियरों को आवंटीत करने की नीति है। इस नीति के अनुसार, एक इंजीनियर को प्रति वर्ष 10 लाख रुपये के 5 काम दिए जाते हैं। यदि इन कार्यों को निर्धारित समय के भीतर सफलतापूर्वक पूरा किया जाता है, तो 15 लाख रुपये तक के पांच काम अगले साल लॉटरी तरीके से दिए जाएंगे। इस नीति के अनुसार, पिछले चार वर्षों के दौरान, 11,482 लाख के 1,955 काम राज्य में बेरोजगार इंजीनियरों को आवंटित किये गये है।