Published On : Mon, Oct 6th, 2014

भंडारा : महाराष्ट्र का मुख्यमंत्री तो मर्द होना चाहिए

Advertisement


प्रचार सभा में शिवसेना सुप्रीमो उद्धव ठाकरे का प्रतिपादन

udhav thakre in bhandara sabha
भंडारा।
‘महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री द्वारा राज्य के विकास के लिए दिल्ली दरबार में हाथ फ़ैलाने की परंपरा पिछले कुछ सालों में राज्य की राजनीति में चल पड़ी है. छत्रपति शिवाजी महाराज के राज्य में ऐसी नौबत फिर से न आने दें. महाराष्ट्र का मुख्यमंत्री तो मर्द होना चाहिए.’

शिवसेना सुप्रीमो उद्धव ठाकरे ने यह प्रतिपादन किया. भंडारा के दसरा मैदान में शिवसेना उम्मीदवार के प्रचारार्थ आयोजित सभा में वे बोल रहे थे.

Advertisement
Advertisement

चुनाव प्रचार के दौरान राजनीतिक दलों द्वारा एक-दूसरे पर कीचड़ उछाला जाता है. आरोप – प्रत्यारोप किए जाते हैं. इससे आम जनता को क्या मिलता है? यह सवाल उठाते हुए उद्धव ने कहा कि आरोप – प्रत्यारोप करने वाले ऐसे लोगों से सावधान रहना चाहिए. शिवसेना सुप्रीमो ने कहा कि संकट के समय जिन लोगों को मदद की, उन्होंने ही युति तोड़ दी. शिवसैनिक ऐसे लोगों को सबक सिखाने के लिए तैयार हो गया है.

udhav thakre in bhandara sabha
कांग्रेस पर निशाना साधते हुए उद्धव ठाकरे ने कहा कि उसने अपने घोषणापत्र में राज्य को लोडशेडिंग मुक्त करने का वादा किया है, तो क्या 15 साल तक सरकार पत्ते खेलते बैठी थी? शिवसेना सुप्रीमो ने कहा कि आज सबको इस बात पर विचार करने की जरुरत है कि महाराष्ट्र का मुख्यमंत्री कैसा हो. उन्होंने भंडारा विधानसभा क्षेत्र से नरेंद्र भोंडेकर, तुमसर से इंजी. राजेंद्र पटले और साकोली से डॉ. प्रशांत पडोले को चुनकर लाने की अपील की.

Advertisement

Advertisement
Advertisement
 

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement