Published On : Mon, Jun 8th, 2020

लापरवाही को लेकर वकील ने की थानेदार को निलंबित करने की शिकायत

कामठी– सुप्रीम कोर्ट ने एक मामले में दिए हुए निर्देश के अनुसार संज्ञेय अपराध की शिकायत में आरोपी पर तुरंत गुन्हा दाखिल किया जाए. ऐसा आदेशित है. लेकिन आजनी पुलिस स्टेशन की हद्द में कामठी के निवासी एक विद्यार्थी के साथ डकैती और मारपीट की घटना हाल ही में हुई है. इस संदर्भ में पीड़ित ने न्यायिक मांग के लिए आजनी पुलिस स्टेशन के चक्कर लगाएं. लेकिन पुलिस ने इस मामले में लापरवाही करते हुए आरोपी के खिलाफ आपराधिक मामला दर्ज नहीं किया, इसके साथ ही जांच तक नहीं की. जिसके कारण पीड़ित के पिता ने पुलिस थानेदार के खिलाफ ही शिकायत की है.

शिकायत के अनुसार पीड़ित अजिंक्य युवराज हुमने एक इंजीनियर होकर एल.एल.बी का थर्ड ईयर का विद्यार्थी है. अपने निजी काम निपटाकर घर जाते हुए आजनी पुलिस स्टेशन के पीछे एनआईटी गार्डन के पास आरोपी शुभम थुल और उसके साथियों ने पीड़ित को रास्ते में रोककर उसकी जमकर पिटाई की. इसके साथ ही पीड़ित के गले की चार तोले की सोने की चैन, हाथ का दो तोले का चांदी का कड़ा, और पर्स में रखे दो हजार पांच सौ रुपए छीनकर भाग खड़े हुए. इस संदर्भ में पीड़ित अजिंक्य ने आजनी पुलिस स्टेशन में आकर शिकायत की.

लेकिन पुलिस ने कोरोना महामारी में पुलिस व्यस्त होने का कारण बताते हुए दूसरे दिन आने के लिए कहा. इस संदर्भ में पीड़ित की शिकायत लेने के लिए टालमटोल होता देख पीड़ित के पिता ऍड. युवराज हुमने ने खुद आजनी पुलिस स्टेशन में 1 जून को शिकायत दर्ज की और आरोपीयो पर आपराधिक मामला दर्ज करने की मांग की. लेकिन अब तक पुलिस की ओर से किसी भी तरह कार्रवाई नहीं की गई और नाही जांच की गई.

शिकायत करने के बाद भी घटना की गंभीरता न लेते हुए पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज भी जमा नहीं किए है. इसके साथ ही फिर्यादी की एमएलसी भी नहीं करने के कारण मज़बूरी में फिर्यादी को निजी हॉस्पिटल में इलाज कराना पड़ रहा है. जिसके कारण रिपब्लिकन बेरोजगार विद्यार्थी संघटन की ओर से ऍड. युवराज हुमने ने लापरवाही को लेकर पुलिस निरीक्षक खांडेकर को निलंबित करने की शिकायत प्रशासन से की है.