Published On : Tue, Jan 28th, 2020

गोंदिया में कानून व्यवस्था की स्थिति बद से बदतर

1 दिन में दर्ज हुए तीन संगीन जुर्म

मासूम बच्ची से छेड़छाड़ , नाबालिग किशोरी से दुष्कर्म , 4 लाख घरफोड़ी जैसी वारदातें एक ही दिन जिले के थानों में दर्ज होना यह बताने के लिए काफी है कि गोदिया की कानून व्यवस्था बद- से – बदतर हो चली है। लगातार बढ़ते संगीन अपराधों से जहां जनता खुद को असुरक्षित और लाचार महसूस करने लगी है वहीं पुलिस की लचर कार्यप्रणाली पर भी अब सवाल उठने लगे हैं।

गोंदिया तहसील के रावणवाड़ी थाना अंतर्गत आने वाले ग्राम कामठा में एक 5 साल की मासूम बच्ची से हुई छेड़छाड़ की घटना से ग्रामवासी खासे आक्रोशित है , सरपंच से लेकर गांव के प्रबुद्ध नागरिकों ने रावणवाड़ी थाना कोतवाली पहुंच गिरफ्तार आरोपी के खिलाफ सख्त कार्रवाई न होने पर आंदोलन की चेतावनी दे दी । ‌


बताया जाता है कि आरोपी की उम्र साढ़े 17 वर्ष है और वह पहले भी गांव के तीन चार घरों में जाकर छेड़छाड़ जैसी वारदातों को अंजाम दे चुका है। घटना 26 जनवरी की दोपहर उस वक्त ग्राम कामठा में घटी जब बालिका शाला से घर लौटी और बस्ता रखकर अपनी हमउम्र तीन -चार सहेलियों के साथ पास के खेत में खेल रही थी इसी दौरान सूने मौके का लाभ उठाकर आरोपी युवक ने उसके साथ दुर्व्यवहार किया।

छेड़छाड़ की शिकार हुई बच्ची ने घर आकर जानकारी दी जिसके बाद परिजनों ने थाना कोतवाली पहुंच विधि संघर्ष आरोपी के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई। पुलिस ने नाबालिग आरोपी के खिलाफ धारा 354 ( ब )506 सह कलम 8 ( पॉक्सो एक्ट ) का जुर्म दर्ज कर , हिरासत में लिए गए आरोपी को बाल न्यायालय में पेश किया , कोर्ट ने 7 फरवरी तक इस आरोपी को बाल सुधार गृह नागपुर में भेजने का आदेश दिया है , प्रकरण की जांच पुलिस उप निरीक्षक जोकार कर रहे हैं।

दुष्कर्म की शिकार किशोरी , मां बनी
नासमझी में उठाया गया कदम किस हद तक जिंदगी को दो-राहे पर लाकर खड़ा कर देता है इसी की एक बानगी सोमवार 28 जनवरी को चिचगड़ थाने में दर्ज केस से सामने आयी है ।

देवरी तहसील चिचगढ़ थाना अंतर्गत आने वाले ग्राम निवासी नाबालिग युवती ने शासकीय अस्पताल में नन्ही बच्ची को जन्म दिया है। दुष्कर्म की शिकार हुई पीड़ित युवती के बयान तथा मेडिकल जांच और परिजन द्वारा दर्ज कराई गई शिकायत पर चिंचगड़ पुलिस ने ग्राम निवासी दगाबाज आरोपी युवक के खिलाफ बलात्कार की धारा 376 (2) ( एन ) सह कलम, 6 बाल लैंगिक अत्याचार व संरक्षण अधिनियम ( पोक्सो एक्ट ) का जुर्म दर्ज कर आरोपी को हिरासत में ले लिया है।

सूत्रों के मुताबिक गत 1 वर्ष से आरोपी मौका मिलते ही विभिन्न बहाने बनाकर युवती को अपने मकान में बुलाने लगा तथा उसकी इच्छा के विरुद्ध डराते धमकाते अनेक मर्तबा शारीरिक संबंध बनाए और उसे हवस का शिकार बनाया जिससे नाबालिक को गर्भधारण हो गया जहां उसने अब एक नवजात बच्ची को जन्म दिया है। अस्पताल प्रशासन के मुताबिक जच्चा और बच्चा दोनों की स्थिति बेहतर है। अब पुलिस , केस डायरी को मजबूत करने के लिए जन्म लेने वाले नवजात के डीएनए सैंपल लेकर आरोपी युवक के डीएनए सैंपल से प्रयोगशाला में जांच करवाएगी ताकि इस बात की पुष्टि हो सके कि जन्म लेने वाले नवजात का असल पिता वहीं है , बहरहाल मामले की जांच पुलिस उप निरीक्षक रोहित गांगुरडे कर रहे हैं ।

रवि आर्य