Published On : Sat, Jun 29th, 2019

माशूका को लेकर दोस्त का कत्ल

गोंदिया में ‘ संजू ’ के मर्डर से सनसनी

गोंदिया: तेरी माशूका मुझे बहुत अच्छी लगती है, बस तू राजी हो जा और मेरी उसके साथ एकांत भरी मुलाकात करा दे? कुछ एैसे ही लफ्जों का इस्तेमाल जब एक दोस्त ने दुसरे दोस्त के आगे किया तो अपनी प्रेमिका को दिलो जान से चाहने वाले युवक का माथा ही घूम गया और हम प्याला-हम निवाला होकर साथ घुमने वाले दोनों जिगरी दोस्तों के बीच एैसी ठनकी कि, उसकी परिणिती एक निशृंस हत्या के तौर पर सामने आ गई।

Advertisement

दोस्ती में दगाबाजी का मंजर भयावह निकला
दोस्ती में दगाबाजी का मंजर इतना भयावह होगा, यह तो किसी ने सोचा भी नहीं था? संजू नामक युवक की निशृंस हत्या के जुर्म में गोंदिया शहर पुलिस ने घटना के महज 12 घंटे के भीतर ही 3 युवक- गोपाल उर्फ बब्बू शर्मा (22), अनिल उर्फ अन्नू शर्मा (24 रा. माता मंदिर समीप बब्बा भवन श्रीनगर) तथा विशाल उर्फ विस्सू इंगोले (22 रा. पवार मौहल्ला मुर्री) को हिरासत में ले लिया है।
वारदात का खुलासा आज शनिवार 29 जून के सुबह उस वक्त हुआ, जब मुर्री रेल्वे चौकी के निकट येरणे किराना दुकान के पीछे सड़क किनारे पड़ी एक युवक की लाश दिखायी दी। घटना की जानकारी मिलते ही थाना प्रभारी मनोहर दाभाड़े सदलबल मौके पर पहुंचे। युवक के शरीर पर धारण जिन्स (पेंट) घुटने तक खिसकी हुई थी, उसका शर्ट खुला हुआ था तथा चेहरा कुचला हुआ था और पास ही खून सन्ने 2 बड़े बोल्डर पत्थर पड़े हुए थे। मृतक की शिनाख्त संजू अनिलकुमार रोचानी (22 रा. माता मंदिर निकट श्रीनगर) के तौर पर की गई।

Advertisement

ट्रेन में साथ करते थे फेरी का धंधा
मृतक के परिजनों से पुलिस को यह जानकारी मिली कि, शुक्रवार रात 8.30 बजे गोपाल तथा उसका बड़ा भाई अनिल यह संजू के घर आए थे तथा उसे बुलाकर साथ ले गए। जब पुलिस ने इन युवकों के संदर्भ में जानकारी इक्कठी की तो वे फरार थे।
पुलिस के मुताबिक मृतक और आरोपी यह गोंदिया-चंद्रपुर लाइन तथा गोंदिया-नागपुर लाइन पर चलने वाली ट्रेनों में चने, ककड़ी , भेल बेचने का फेरी धंधा किया करते थे तथा आपस में हम प्याला-हम निवाला थे और आपस में गहरी दोस्ती थी।
शुरूवात में एैसा लगा कि, हत्या की वजह आपसी व्यवसायिक प्रतिस्पर्धा हो सकती है लेकिन अब आरोपियों के पकड़े जाने के बाद प्रारंभिक पूछताछ में जो खुलासे हुए है उसके मुताबिक अनिल की महिला मित्र पर मृतक संजू का दिल आ गया और उसने अपने मन की बात अनिल से कहते हुए पेशकश रख दी जिससे अनिल के मन को ठेंस पहुंची और दोनों के बीच आपसी चकल्लस शुरू हुई जो रंजिश तक जा पहुंची।

घर से बुलाकर ले गए, साथ शराब डकारी
28 जून शुक्रवार की रात संजू को बुलाकर तीनों युवक श्रीनगर इलाके के चौहान चौक आ गए जहां जमकर शराब डकारी गई। नशे में टून होने के बाद आपसी फसाद शुरू हुआ तथा एक छोटा चाकू निकालकर संजू पर वार किया गया जिससे वह जान बचाने हेतु अंदर की गलियों से होता हुए मुर्री रेल्वे चौकी की ओर भागा। आरोपी भी उसके पीछे दौड़े और उसे रात के अंधेरे में उसे घेर लिया तथा निशृंस हत्या करने के बाद शव की शिनाख्त न हो सके इस मकसद से पुलिस की जांच भटकाने का उद्देश्य लेकर संजू का चेहरा आरोपियों ने कुचल दिया।

3 पुलिस टीमों ने दबिश देकर हत्यारों को खोज निकाला
मर्डर की इस घटना से शहर में सनसनी फैल गई। सोशल मीडिया पर तस्वीरें वायरल होने लगी लिहाजा पुलिस प्रशासन हरकत में आ गया। जिला पुलिस अधीक्षक विनीता साहू के मार्गदर्शन तथा उपविभागीय पुलिस अधिकारी रमेश बरकते के नेतृत्व में 3 टीमें गठित की गई और शहर की नाकाबंदी करते हुए जगह-जगह दबिश देने का दौर शुरू हुआ। इसी बीच स्थानिक अपराध शाखा पुलिस निरीक्षक दिनकर ठोसरे तथा शहर थाना प्रभारी मनोहर दाभाड़े को खबरी से यह पुख्ता जानकारी मिली कि, आरोपी सब्जी मंडी के मजदूर चौक के आसपास कहीं दबे हुए है।
सापोनि सावंत, उपनिरीक्षक बघेले, सहा. उपनि लिलेंद्र बैस, पो.ह. राजु मिश्रा, राजु पाचे, विठ्ठले, रॉबिन साठे, हलमारे, जे.डी. उईके, सहारे, पो.ना. विनय शेंडे, बोपचे, मेश्राम, बिसेन आदि ने तत्काल एक्शन में आकर आरोपियों को घेरते हुए वारदात के महज 12 घंटों के भीतर ही सलाखों के पीछे पहुंचा दिया।

– रवि आर्य

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

 

Advertisement
Advertisement
Advertisement