Published On : Tue, Jul 27th, 2021

शीघ्र शुरू होगा कस्तूरचंद पार्क मेट्रो स्टेशन

नागपुर : महा मेट्रो के उत्तर-दक्षिण मार्ग रिच -2 पर कस्तूरचंद पार्क मेट्रो स्टेशन शीघ्र ही यात्री से जुड़ जाएगा। आगामी कुछ दिनों में मेट्रो रेल सुरक्षा आयुक्त द्वारा स्टेशन का निरीक्षण किया जाएगा, जिसके बाद स्टेशन से यात्री यातायात शुरू होगा। नागपुरवासियों को महा मेट्रो की ओर सेइस स्टेशन की बड़ी सौगात मिलेगी।

सीताबर्डी इंटरचेंज स्टेशन से यात्रियों का आना-जाना शुरू है और नॉर्थ-साउथ कॉरिडोर पर मेट्रो ट्रेनें जो वर्तमान में सीताबर्डी इंटरचेंज पर रुकती हैं, अब इस स्टेशन पर रुकेंगी। जीरो माइल स्टेशन को पार करने के बाद अगला स्टेशन कस्तूरचंद पार्क है। खापरी पहुंचने के लिए आप इस स्टेशन से मेट्रो सेवा ले सकते हैं।

महा मेट्रो ने कस्तूरचंद पार्क मैदान के ऐतिहासिक महत्व को ध्यान में रखते हुए इस मेट्रो स्टेशन का निर्माण किया गया है। मेट्रो स्टेशन के बाहरी हिस्से को उसी तरह से उकेरा गया है। इस मैदान में पवेलियन पर जाली लगाई है। स्टेशन की बाहरी कलाकृति हेरिटेज कमेटी की देखरेख में तैयार की गई है । स्टेशन के बाहरी हिस्से और कस्तूरचंद पार्क मैदान में पवेलियन का निर्माण एक ही रंग का है, जिससे दोनों इमारतें सामंती लगती हैं। स्टेशन के बाहरी हिस्से पर किया गया मेश वर्क कुल 4,000 वर्ग मीटर के क्षेत्रफल में फैला हुआ है.

महत्वपूर्ण बात यह है कि ऐतिहासिक के महत्व को ध्यान में रखते हुए, महा मेट्रो ने आधुनिक कला से इसे अवगत कराया है। यही कारण है कि यह स्टेशन नए और ऐतिहासिक विषयों का अनूठा संगम है। कस्तूरचंद पार्क मेट्रो स्टेशन में यात्रियों के लिए सभी आधुनिक सुविधाएं उपलब्ध होंगी ।

स्टेशन के बायीं और दायीं ओर दो लिफ्ट लगाई गई है। कॉनकोर्स लेवल से प्लेटफॉर्म तक जाने के लिए एक ही तरह से दो लिफ्ट हैं। प्रत्येक लिफ्ट में 13 यात्रियों की क्षमता है।

लिफ्ट के अलावा, सड़क से समवर्ती क्षेत्र के साथ-साथ समवर्ती क्षेत्र से प्लेटफॉर्म तक जाने के लिए बाईं और दाईं ओर दो एस्केलेटर हैं। कॉनकोर्स से नीचे जाने के लिए दो सीढ़ियाँ और कॉनकोर्स से प्लेटफ़ॉर्म तक जाने के लिए चार सीढ़ियाँ भी हैं।

कस्तूरचंद पार्क मेट्रो स्टेशन का कुल निर्माण क्षेत्र 5,486.74 वर्ग मीटर है। इनमें कॉनकोर्स (2,473 वर्ग मीटर), प्लेटफॉर्म (2,368.74 वर्ग मीटर), लेफ्ट एंट्रेंस एंड पैसेज (405 वर्ग मीटर) और राइट एंट्रेंस एंड पैसेज (240 वर्ग मीटर) शामिल हैं।

कस्तूरचंद पार्क मेट्रो स्टेशन पर्यावरण के अनुकूल है। इस स्टेशन पर 5 किलो का बायो डाइजेस्टर लगाया गया है। समय के साथ इस माध्यम से उत्पन्न ऊर्जा के लिए स्टेशन की छत पर सोलर पैनल भी लगाए जा रहे है ।