Published On : Thu, May 31st, 2018

4 लोकसभा 10 विधानसभा सीटों के नतीजे आज

नई दिल्ली: उत्तर प्रदेश के कैराना और महाराष्ट्र के गोंदिया सहित देश के 4 लोकसभा सीटों और 10 विधानसभा सीटों पर हुए वोटिंग के नतीजे आज आएंगे। थोड़ी ही देर में वोटों की गिनती शुरु हो जाएगी।

लोगों की सबसे ज्यादा नजर कैराना सीट पर है। इस सीट पर जहां बीजेपी की प्रतिष्ठा दांव पर है तो वहीं दूसरी तरफ सभी विपक्षी दलों ने राष्ट्रीय लोकदल के उम्मीदवार तबस्सुम हसन को समर्थन दिया था।

विपक्षी दलों ने तबस्सुम हसन को अपना समर्थन तो दिया था लेकिन प्रचार मैदान में आरएलडी मुखिया अजीत सिंह और उनके बेटे के अलावा किसी भी सहयोगी दलों के नेताओं ने इस चुनाव में उनके लिए रैली नहीं कि।

इस सीट पर परिणाम आने के बाद साफ हो जाएगा कि क्या अब भी अजीत सिंह की पकड़ जाट वोटों पर है या वह उनके पाले से खिसकर बीजेपी की तरफ चली गई है।

कैरान से बीजेपी ने पूर्व सांसद हुकुम सिंह की बेटी मृगांका सिंह को उम्मीदवार बनाया है वहीं तबस्सुम हसन को एसपी, बीएसपी और कांग्रेस के अलावा आम आदमी पार्टी, भीम आर्मी और कई अन्य छोटे दलों ने भी अपना समर्थन दिया है।

इन सभी सीटों पर सोमवार (28 मई) को वोटिंग हुई थी। कुछ मतदान केंद्रों पर मशीनों की गड़बड़ी के कारण बुधवार (30 मई) को वोटिंग हुई थी।

ईवीएम में खराबी आने के कारण कैराना लोकसभा के 73 और महाराष्ट्र के गोंदिया-भंडारा लोकसभा सीट के 49 बूथों पर बुधवार को पुनर्मतदान कराया गया था।

यूपी के कैरान में हुए पुनर्मतदान में शाम 6 बजे तक करीब 61 फीसदी लोगों ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया। महाराष्ट्र के पालघर और भंडारा गोंदिया सीट पर मुख्य मुकाबला बीजेपी और शिवसेना के बीच है।

विधानसभा उप चुनाव में झारखंड के गोमिया और सिल्ली, यूपी के नूरपुर, पंजाब के शाहकोट, बिहार के जोकीहाट, केरल के चेंगन्नूर, महाराष्ट्र के पलुस कडेगाव, मेघालय के अंपाती, उत्तराखंड के थराली और पश्चिम बंगाल के महेशतला में ईवीएम में बंद उम्मीदवारों के भाग्य का आज फैसला होगा।

मेघालय की अंपाती विधानसभा सीट पूर्व सीएम मुकुल संगमा के इस्तीफे की वजह से खाली हुई है जबकि पतंगराव कदम के निधन के कारण सांगली की पलुस-काडेगांव विधानसभा सीट पर उपचुनाव हुआ है।

अररिया के जोकीहाट सीट से पूर्व जदयू नेता और वर्तमान आरजेडी सांसद सरफराज आलम विधायक थे। सरफराज आलम के सांसद बनने के बाद जोकीहाट विधानसभा की सीट खाली हो गयी थी।

वहीं झारखंड की गोमिया और सिल्ली विधानसभा सीट के दोनों विधायकों को अलग-अलग मामलों में सजा होने की वजह से विधायकी से इस्तीफा देना पड़ा। जिससे इन सीटों पर भी 28 मई को ही उपचुनाव करवाया गया है।

केरल में सीपीएम के विधायक के के रामचंद्रन नायर की जनवरी में मृत्यु के बाद चेंगन्नूर विधानसभा सीट पर उपचुनाव हुए हैं। दूसरी तरफ पंजाब की शाहकोट विधानसभा पर शिरोमणि अकाली दल के वरिष्‍ठ नेता और पूर्व मंत्री अजीत सिंह कोहड़ के आकस्मिक निधन के कारण उपचुनाव करवाना पड़ा था।

उत्तराखंड की चमोली जिले की थराली विधानसभा सीट बीजेपी विधायक मगन लाल शाह के निधन के बाद खाली हुई थी जिसपर उपचुनाव करवाया गया था।