Published On : Thu, May 31st, 2018

कैराना उपचुनाव परिणाम 2018: ‘जिन्ना पर भारी पड़ा गन्ना’, कैराना में पिछड़ने पर ट्रोल हुई बीजेपी

Jinnah

उत्तर प्रदेश के कैराना लोकसभा उपचुनाव में आरएलडी कैंडिडेट की बढ़त अच्छी खासी हो गई है। यहां पर बीजेपी उम्मीदवार मृगांका सिंह लगातार पिछड़ रही हैं। इसके बाद सोशल मीडिया पर बीजेपी की ट्रोलिंग शुरू हो गई है। कैराना चुनाव गन्ना वर्सेज जिन्ना के मुद्दे पर भी लड़ा गया था। चुनाव प्रचार के दौरान आरएलडी नेता जयंत चौधरी ने कहा था कि यहां पर जिन्ना नहीं गन्ना मुद्दा है। जयंत चौधरी के इस बयान पर सीएम योगी आदित्यनाथ ने भी पलटवार किया था। योगी ने कहा था कि जिन्ना के बजाय गन्ना ही उनकी पहली प्राथमिकता है, लेकिन वे जिन्ना की फोटो भी नहीं लगने देंगे। चुनाव रुझानों के बाद अब ट्विटर पर यूजर बीजेपी पर चुटकी ले रहे हैं।

आरएलडी कैंडिडेट तबस्सुम हसन इस वक्त लगभग 50 हजार वोटों से आगे चल रही हैं। इस पर अविनाश यादव ने लिखा, “जिन्ना के जिन पर भारी पड़ा कैराना का गन्ना।भाजपा चारों खाने चित्त।” धीरेन्द्र कुमार ने कहा, “गन्ना के आगे जिन्ना हुए गायब, अब झोला उठाने का टाईम आ गया है।” सैफ आजम ने लिखा, “कैराना लोकसभा उपचुनाव में “जिन्ना हार रहा है और गन्ना जीत रहा है ” रोड शो भी काम न आया।” इस ट्रेंड पर अमीर हैदर ने राय दी, “कैराना और नूरपुर मे BJP के ज़िन्ना को किसानो ने गन्ना चुसवादिया है। ज़िन्ना और EVM मिलकर भी BJP को नही बचा पाये।” अनुज मिश्रा ने लिखा, “कैराना में जिन्ना पर गन्ना भारी, किसान जीता बीजेपी हारी, सत्य जीता झूठों की टोली हारी, सत्यमेव जयते, जय देश जय कांग्रेस।” एक यूजर ने लिखा, “मोदी और योगी दोनों कहते हैं कि “सांप” और “नेवलों” के मिलने से क्या होगा, अरे साहब, यही होगा जो “कैराना” और “नूरपुर” में हुआ।”


बता दें कि भाजपा सांसद हुकुम सिंह के निधन के कारण कैराना सीट पर उपचुनाव हुए। उनकी बेटी मृगांका सिंह यहां से भाजपा प्रत्याशी हैं। इस सीट पर रालोद से तबस्सुम हसन मैदान में हैं जिन्हें सपा, बसपा और कांग्रेस का समर्थन भी प्राप्त है। इधर नूरपुर में भी बीजेपी की हार हुई है। यहां पर सपा कैंडिडेट ने जीत हासिल की है।