Published On : Tue, Jan 9th, 2018

सिंचाई घोटाले में 4 हजार 500 पेज का आरोप पत्र दाखिल

Gosekhurd
नागपुर: गोसीखुर्द सिंचन प्रकल्प में हुए भ्रस्टाचार मामले में पांच अधिकारियों के साथ कुल 12 लोगों पर मंगलवार को आरोपपत्र दाखिल किया गया। एंटी करप्शन ब्यूरो की टीम ने विभाग की विशेष अदालत में चार हजार 500 पेज का आरोप पत्र मंगलवार को दाखिल किया। प्रकल्प के अंतर्गत मोखाबर्डी उपसा सिंचाई योजना के काम के लिए निकाली गई निविदा में भारी गैरव्यवहार होने का खुलासा एसीबी की जाँच में हुआ था। आरोपपत्र में आरोपियों द्वारा मिलीभगत कर कारनामा अंजाम देने की बात कही गई है।

जिन आरोपियों के ख़िलाफ़ आरोपपत्र दर्ज कराया गया है उनमे शामिल है गोसेखुर्द राष्ट्रीय सिंचाई प्रकल्प के मुख्य अभियंता व पुनर्मूल्यांकन समिति के सदस्य सोपान रामराव सूर्यवंशी, कार्यकारी अभियंता उमाशंकर वासुदेव पर्वते, वरिष्ठ विभागीय लेखापाल चंदन तुलशीराम जिभकाटे, सेवानिवृत्त कार्यकारी संचालक देवेंद्र परशुराम शिर्के, अधीक्षक अभियंता दिलीप देवराव पोहेकर, आर. जे. शाह कंपनी व डी. ठक्कर कन्स्ट्रक्शन कंपनी के संचालक कालिंदी राजेंद्र शाह, तेजस्विनी राजेंद्र शाह, विशाल प्रवीण ठक्कर, प्रवीण नाथालाल ठक्कर, जीगर प्रवीण ठक्कर, अरुणकुमार गुप्ता,रमेशकुमार सोनी यह शामिल है। एसीबी की विशेष अदालत में अब गुरुवार को अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश श्रीमती ए. सी. राऊत के सामने सुनवाई होगी। मामले में सरकार की तरफ से अ‍ॅड. नितीन तेलगोटे ने पैरवी की।