Published On : Wed, Nov 29th, 2017

शीतकालीन अधिवेशन पूर्व नहीं निर्मित होगा ‘आपली बस’ का स्थानक व उसका स्वतंत्र मार्ग


नागपुर: शहर बस सेवा नागपुर महानगरपालिका द्वारा संचलन किया जा रहा है, लेकिन इनका खुद का शहर के बीच बस स्थानक न होने से किराए पर राज्य परिवहन विभाग की सीताबर्डी स्थित बस स्थानक का कुछ हिस्सा लेकर समय काटा जा रहा है. दूसरी ओर मोरभवन बस स्थानक से लगे कृषि विश्वविद्यालय के अधीन जमीन मनपा को बस स्थानक निर्माण के साथ ही ‘निर्माणाधीन बस स्थानक से सटी ‘डीपी रोड’ का निर्माण भी कछुआ गति हो रहा है. जबकि आगामी शीतकालीन अधिवेशन के पूर्व बस स्थानक और ‘डीपी रोड’ का निर्माण कर उसका उपयोग शुरू करने के मामले में मनपायुक्त अश्विन मुद्गल, उपमहापौर दीपराज पार्डीकर व परिवहन सभापति बंटी कुकड़े गंभीरता दिखा रहे हैं.लेकिन जिम्मेदार अधिकारियों की लापरवाही से उक्त तीनों खाकी-खादीधारियों के सकारात्मक मंसूबे के पूर्ण होने में ग्रहण लग गया है.


अधर में डीपी रोड
मनपा के निर्माणाधीन बस स्थानक के उपयोगार्थ आने वाली व झांसी रानी चौक से शंकर नगर चौक तक जाने वाले मार्ग और वेराइटी चौक से महाराजबाग चौक तक जाने वाली मार्ग को जोड़ने वाले ‘डीपी रोड’ का निर्माण काफी धीमी गति से जारी है. शीतकालीन अधिवेशन पूर्व सड़क का निर्माणकार्य पूरा हो गया तो वेराइटी चौक से झांसी रानी चौक तक की सड़कों की भीड़ काफी कम हो जाती. और आपली बस की आवाजाही के लिए दिक्कतें कम हो जाती. लेकिन मनपा के जिम्मेदार अधिकारी उक्त अधिकारियों और पदाधिकारियों के मंसूबे को पानी फेरने में लीन हैं, क्योंकि सभी नए हैं. यही अधिकारी-पदाधिकारी पुराने होते तो सम्बंधित अधिकारी के कार्यों में तेजी देखते ही बनी रहती.

खुद का बस स्थानक कागजों पर
राज्य सरकार की पहल पर मनपा को नियमानुसार ‘आपली बस स्थानक’ के लिए मोरभवन बस स्थानक के पीछे कई एकड़ जगह मिली. लेकिन मनपा प्रशासन के सम्बंधित अधिकारियों ने बस स्थानक का निर्माण कागजों तक ही सीमित रख दिया है. कल शाम प्रस्तावित बस स्थानक का मुआयना करने पर देखा गया कि सम्पूर्ण परिसर खुला होने के साथ ही साथ झुड़पी जंगल सा हो गया है. यह जगह पहले शौच के उपयोग के लिए लाई जाती थी. बस स्थानक के निर्माण के लिए प्रशासन को अगले दस दिनों तक युद्ध स्तर पर कार्य करना होगा, तभी बस स्थानक स्वतंत्र रूप से मनपा परिवहन विभाग संचालित कर पाएगा. जिसका अधिवेशन पूर्व राज्य परिवहन मंत्री की प्रमुख उपस्थिति में उद्धघाटन हो सकेगा. इस बस स्थानक के निर्मिति व संचलन से मोरभवन बस स्थानक पर हो रहे मनपा खर्च पर अंकुश लगेगा.


नेरल ने कॉल नहीं उठाया तो पदाधिकारी पहुंचे उनके कक्ष
उक्त दोनों मुद्दों को लेकर उपमहापौर और परिवहन सभापति ने अधिकारी नेरल को कल दोपहर कॉल किया था. उन्होंने दोनों में से किसी के कॉल का जवाब नहीं दिया. अधिकारी का रूखा व्यवहार देख पदाधिकारी उनके कक्ष पहुंचे, तो नेरल ने टालमटोल का जवाब देते पहले कॉल से खुद को अंजान बताया फिर गूगल पर सड़क की स्थिति बताई, लेकिन मौका निरिक्षण को तैयार नहीं हुए. सड़क निर्माण में कई बाधा का जिक्र दर्शाकर ‘डब्ल्यूबीएम’ सड़क निर्माण अधर में नज़र आ रही है. नेरल के अनुसार मनपा आर्थिक अड़चन में है, जबकि शहर और शहर बस यात्रियों के साथ सड़क पर बढ़ती भीड़ को कम करने के लिए दोनों कार्यों का पूरा होना जरूरी है. रहा सवाल वैध-अवैध खर्च का तो मनपा में इतने आर्थिक अड़चनों के बीच गैर जरूरी खर्च का क्रम थम नहीं रहा.