| | Contact: 8407908145 |
    Published On : Tue, Jul 17th, 2018

    नागपुर ग्रामीण में आपराधिक गतिविधि व अवैध धंधे में बढ़ोतरी

    Fraud

    Nagpur: मुख्यमंत्री और गृहमंत्री को विधानसभा में विपक्ष नेता राधाकृष्ण विखे पाटिल द्वारा लिखे गए पत्र के अनुसार नागपुर जिला ग्रामीण में पिछले कुछ वर्षो से आपराधिक गतिविधिया और अवैध धंधों में काफी इजाफा हुआ हैं.इस मामले में विखे पाटिल ने ध्यानाकर्षण प्रस्ताव के तहत गृहमंत्री से जवाब तलब किया हैं.

    विखे पाटिल के अनुसार जिले में अवैध शराब,क़त्ल के लिए गौवंश का परिवहन,खनिज संपदा का अवैध दोहन सह परिवहन आदि मामले में बढ़ोतरी नागपुर ग्रामीण पुलिस अधीक्षक के लापरवाही से फलफूल रहा हैं.

    ग्रामीण पुलिस मुख्यालय,टेका नाका में मैदान के निर्माणकार्य सह अन्य बांधकाम में धांधली हो रही हैं। वर्दी के खौफ से निर्माणकार्य सामग्री मंगवा ली गई और भुगतान करने के नाम पर आनाकानी जारी है। मध्य प्रदेश की शराब का जिले में अवैध परिवहन सह व्यवसाय शबाब पर है। जिले में राशन का अनाज की कालाबाजारी,कोयला सह खनिज संपदा की चोरी को ग्रामीण पुलिस बढ़ावा दे रही है। जिले में कानून व्यवस्था की धज्जियां उड़ रही है।

    रामटेक के बोन्दी सत्रापुर इलाके में एक महिला की लाश मिली,इस प्रकरण में दीपक सोमकुंवर को झूठे आरोप मढ़ कर गिरफ्तार किया गया। जिले में अवैध गुटकों की सरेआम बिक्री करने करने वाले माफिया को शह देकर निर्दोषों को वर्दी का ख़ौफ़ दिखाया जा रहा है। जिले में गौमांस बिक्री पर पुलिस नजरअंदाज कर रही है। इस मामले में हिंदू-मुस्लिम विवाद कभी भी होने की संभावना को नकारा नही जा सकता है। नागपुर ग्रामीण पुलिस अधीक्षक का अवैध कृत को शह के कारण आम ग्रामीण जनता में असंतोष के साथ खौफ़ का वातावरण का निर्माण हो गया है।

    विखे पाटिल ने उक्त मामले को लेकर सरकार से तत्काल जांच कर दोषियों पर कार्रवाई की मांग करते हुए शासन की प्रतिक्रिया मांगी हैं। उल्लेखनीय यह हैं कि विपक्ष नेता विखे पाटिल को नागपुर ग्रामीण काँग्रेस के जिला महासचिव गज्जू यादव ने पत्र लिख मानसून अधिवेशन में उक्त मामले को उठाने की मांग की थी। इस पत्र की प्रत विपक्ष नेता के अलावा मुख्यमंत्री,विधानपरिषद में विरोधी पक्ष नेता,विधानसभा में कांग्रेस के उपनेता,राज्य के गृह सचिव को भी भेजी हैं।

    यादव के पत्र अनुसार उन्होंने पुलिस अधीक्षक शैलेश बलकवडे के कार्यकाल में हुए उक्त घटनाक्रमो की निष्पक्ष जांच की मांग की हैं। यादव के अनुसार पुलिस मुख्यालय परिसर में निर्माणकार्य हेतु रामटेक के एक ईंट भट्टे के संचालक से मांग अनुरूप ईंट मंगवा ली और भुगतान में आनाकानी कर रही है।इसके अलावा ग्रामीण के सभी थानों पर दबाव बनाकर बांधकाम सामग्री संकलन की।

    यादव के अनुसार जब से शैलेश बलकवडे ने पुलिस अधीक्षक का पदभार संभाला, अवैध शराब बिक्री और मध्यप्रदेश की शराब का परिवहन शबाब पर हैं। ग्रामीण के थानों परिसर से चंद्रपुर में शराब का परिवहन जारी हैं, इस मामले में चंद्रपुर की अपराध शाखा ने रामटेक पुलिस के सचिन मेश्राम पर कार्रवाई की और परिवहन की जाने वाली वहां जप्त की। ऐसे अनगिनत मामले पुलिस विभाग की छवि धूमिल कर रही हैं।

    यादव ने आगे जानकारी दी कि जिले में राशन की कालाबाजारी शबाब पर हैं। साथ ही कोयला सह खनिज संपदा का की चोरी से सरकारी राजस्व को लाखों करोड़ों का चूना लग रहा हैं। बिना रॉयल्टी और ओवरलोड के रोजाना सैकड़ो मामले को पुलिस साठगांठ कर बढ़ावा दे रही। ग्रामीण पुलिस के बजाय शहर पुलिस के उपायुक्त नीलेश भरणे ने 29 जून 2018 को 37 ट्रक खनिज उमरेड मार्ग पर पकड़ी थी।

    उल्लेखनीय यह भी हैं कि शैलेश बलकवडे रामटेक के विधायक मल्लिकार्जुन रेड्डी और पूर्व विधायक आशीष जैस्वाल के इशारे पर कांग्रेस के कार्यकर्ताओं पर अनावश्यक पुलिसिया खौफ पैदा कर वर्दी को मलिन कर रहे,जिस पर अविलंब रोक लगाने की मांग कांग्रेसी कार्यकर्ताओं ने गृहमंत्री से की हैं।

    Stay Updated : Download Our App
    Mo. 8407908145