Published On : Fri, Oct 16th, 2020

काटोल से किसान रेलवे का शुभारंभ

काटोल: – देश के मुख्य बाजारों में काटोल तालुका के किसानों और व्यापारियों की कृषि उपज बेचने के लिए, अनिल देशमुख (गृह मंत्री) के प्रयासों के कारण, काटोल नरखेड के संतरा उत्पादक किसानों के लिये किसान रेलवे को स्टापेज मिला है। 14अक्तूबर को काटोल कृषी उपज मंडी के सभापती तारकेश्वर शेलके द्वारा किसान रेल को को हरी झंडी दिखाई।

तालुका में व्यापारियों और किसानों ने एक रेलवे वैगन में बिक्री के लिए 23 टन संतराभेजा है, इस रेलवे सुविधा के साथ, किसान और व्यापारी देश के किसी भी बाजार में अपनी उपज भेज सकेंगे। संबंधित संगठन को 1000 टन परिवहन के लिए अनुदान दिया जाएगा।

इस अवसर पर, काटोल रेलवे स्टेशन पर जि प सदस्य चंद्रशेखर कोल्हे, चंद्रशेखर चिखले, बापूराव सतपुते, गणेश चन्ने, संजय धोटे, संजय डांगोरे, अजय लडसे, शब्बीर शेख, अयूब पठान, मणिकराव लांडे, अनिल ढोकने, भैय्याजी रोकडे, असलम खोजा, पंकज मानकर,गणेश केला,, पंकज मूंदकर अमित काकडे, मनीष पालीवाल, राजन देशमुख, मोरेश्वर मानकर, जीवन चरडे, डा ठाकरे, निशिकांत नागमोते, राजू डेहानकर, पराग दाते, नितिन नागपुरे, तथा अनेक व्यापारी, किसान उपस्थित थे।


काटोल तालुका में संतरा उत्पादकों के साथ-साथ सब्जियों में गोभी और बैंगन उत्पादक किसानों की भी बड़ी संख्या है।

जिसका लाभ किसानों को किसान रेल के माध्यम से पचास प्रतिशत परिवहन में छूट मिलने की जानकारी कृषी उपज मंडी के सभापती तारकेश्वर शेलके ने दी तथा इसके प्रयासों के लिये गृहमंत्री मंत्री अनिल देशमुख तथा जि प सदस्य सलील देशमुख का आभार माना गया।