Published On : Wed, Aug 23rd, 2017

शालीग्राम स्वामी परिवार साहुकार के जाल में

Shaligram

पीड़ित अमित संजय शालीग्राम स्वामी

नागपुर: हुड्केश्वर पुलिस थाने अंतर्गत सरस्वती नगर स्थित 1500 चौरस फ़ूट प्लॉट नंबर 26 के खरीदी-बिक्री मामले में गजब की तेजी दिखाते हुए हुड्केश्वर पुलिस ने धोकाधडी का मामला दर्ज किया । शालीग्राम परिवार की मीना संजय शालीग्रामस्वामी तथा अमित शालीग्राम स्वामी समेत अन्य 4 लोगो पर भी मामला दर्ज किया गया । इस मामले में ग्रहनी महिलाओं को भी आरोपी बनाया गया। पुलिस प्रशासन की कार्यवाही के तथ्यों के अलावा आरोपी शालीग्राम परिवार का पक्ष और दलील बेहद चौकाने वाली है।

उनके अनुसार प्लॉट खरीददार तथा शिकायतकर्ता विजय लक्ष्मण पौनीकर यह असलियत में खरीददार न होकर केवल विशुध् साहुकार है।

वर्ष 2014 मे पिता की तबियत अचानक खराब होने पर इस परिवार ने इलाज के लिये 2 लाख रुपये 8 प्रतिशत प्रतीमाह ब्याज के हिसाब से लिये। लम्बे समय तक इलाज चलता रहा और ढेर सारा पैसा इलाज लगा इलाज की कोशिश की गई पर आखिरकार इलाज के दौरान पिता संजय शालीग्राम स्वामी की मौत हो गई । बीमारी ने इस परिवार से पिता छाँव दूर ही कर दी। निराधार हो चुके परिवार रकम जल्द वापस नही कर पाया और यही रकम इस सम्पत्ति खरीदी बिक्री का आधार बनी । इस रकम पर ब्याज और चक्रब्याज लगा एक बड़ी रकम बनाई गयी और परिवार के सदस्यों पर मानसिक दबाव बना , डर दिखा आखिर केवल 9 लाख 20 हजार बँक द्वारा भुगतान कर खरीदी की तथा सम्पत्ति इस परिवार से छीन ली गई ।

बिक्री करते समय इस परिवार ने साहुकार पौनिकर से स्पष्ट बताया था के प्लॉट के कागजो मे वारसान प्रक्रिया करना आवशक है साथ ही ले आऊट सोसायटी मार्फत कुछ गलती की सुधारणा भी आवश्यक है इससे पहले रजिस्ट्रि करना ठीक नही । परंतु कुछ न मानते हुए साहुकार पौनीकर ने हट्ट तथा मानसिक दबाव बनाते हुए खरीदी करवा ही ली । प्लॉट की बाजार मूल्य 30 लाख के करीब है । रजिस्ट्रि 19 लाख 50 हजार मे दर्ज की गई पर उसपर भी 9 लाख 20 हजार अदा कर बची हुई रकम ब्याज के तौर पर काट ली गई ।

इस प्लॉट के सभी दस्तावेज स्वर्गीय संजय शालीग्राम स्वामी इनके नाम पर है तथा वर्ष 1995 से अब तक इस सम्पत्ति पर उनके अधिकार सम्बन्धी सभी दस्तावेज उनके पास उपलब्ध होकर यह सम्पत्ति उनके की मालकांना हक्क होने का दावा परिवार ने किया है । इस सम्पत्ति के वापसी के लिये मई 2017 मे इस परिवार ने सिविल सूट की मदत से कोर्ट मे दावा भी प्रस्तुत किया है तथा इसकी जानकारी सम्बन्धित हुड्केश्वर थाने को दस्तावेज के साथ भी दी जाने की बात भी इस परिवार ने बताई ।

मामला न्याय प्रविष्ट होने की जानकारी होने के बावजूद किसी भी तरह की जाँच के बगैर पुलिस विभाग द्वारा धोकाधडी का मामला दर्ज करना बेहद पक्षपात पूर्ण होने का आरोप इस परिवार ने लगाया है ।


प्रतिवर्ष महानगरपालिका मे भरे हुए टेक्सस की रसीद, नागपूर सुधार प्रंन्यास सम्बधी सभी दस्तावेज भी उपलब्ध है ।

पिता की दिनरात की मेहनत से अर्जित की हुई सम्पति साहुकार के जाल मे फंस कर कौड़ियों के भाव दूर हुई उसपर भी उलटे उनपर ही मामला दर्ज कर निर्दोष परिवार पर अन्याय किये जाने का आरोप पीड़ित और आरोपी बन चुके अमित शालीग्राम स्वामी ने किया है ।

वैध और अवैध साहुकारी के कई अति गम्भीर मामले हाल ही मे आँखों के सामने है । उसपर हुड्केश्वर पुलिस की यह कार्यवाही न्यायसंगत न होकर स्पष्ट रूप से पक्षपातपुर्ण होने का आरोप भी लगाया गया है।