Published On : Mon, Jun 28th, 2021

ट्रैवेल्स माफिया कार्यवाई के भय से भूमिगत होने की फिराक में ?

– वेकोलि की ट्रैवेल्स एजेन्सियों पर करोडों के भ्रष्टाचार और फर्जीवाडा का आरोप

नागपुर: केन्द्र सरकार की वेस्टर्न कोल फील्ड्स लिमिटेड(WCL) मे वाहन सप्लाई टेंडर माफिया के ऊपर श्रमिकों के शोषण का आरोप है। इस मामले मे सबसे अधिक अनियमितता, घोटाला और भ्रष्टाचार में 01).मेसर्स श्री बालाजी ट्रैवेल्स,02).मेसर्स वेंकटेश ट्रैवेल्स,03). मेसर्सचोधरी ट्रैवेल्स और 04).मेसर्स शाबरी ट्रैवेल्स आदि ने तो नियम कानूनो की धज्जियां उड़ाने मे महारत हासिल की है।

बताते हैं कि उक्त तीनों ट्रैवेल्स एजेन्सियों का मुखिया ट्रैवेल्स माफिया गुप्ता के खिलाफ ने जांच-पड़ताल शुरु कर दी गई है,इस सबंध में मैसर्स:-वेंकटेश ट्रैवेल्स की नियोक्ता श्रीमती मधुताई संदीप गुप्ता ने अपने लिखित बयान में E.S.I.C. निरीक्षक जांभुलकर को बताया कि उक्त सभी ट्रैवेल्स एजेन्सियों के प्रमुख कर्ताधर्ता उनके पति संदीप कुमार गुप्ता ही जिम्मेदार और जबावदार है।

सूत्रों के मुताबिक जांच पड़ताल की कार्यवाई के भय से वह भूमिगत होने फिराक में योजना बना रहा है ?

इस सबंध में सूचना के अधिकार अंतर्गत प्राप्त जानकारी के अनुसार उक्त ट्रैवेल्स एजेन्सियों पर वेकोलि महाप्रबंधक की चंद्रपुर जिला के सभी उपक्षेत्रीय प्रबंधकों के अधिनस्थ कोयला खदान में कार्यरत कर्मचारियों के विधार्थियों के लिए स्कूल बसेस तथा वेकोलि कर्मियों के ड्यूटी में लाने ले जाने के लिए वाहन आपूर्ति का ठेका इन्हीं ट्रैवेल्स एजेन्सियों प्राप्त हो रहा है। हालांकि वेकोलि की बल्लारशाह, माजरी एरिया,वणी क्षेत्र,राजुरा,उमरेड ,गोंडेगांव,सावनेर,सिल्लेवाडा की वेकोलि खदानों में कार्यरत कर्मियों के लिए अन्य एजेंसियों को भी नाम के लिए वाहन आपूर्ति का ठेका दिया गया है। परंतु अत्याधिक मुनाफा यानि कम लागत और अधिक आमदनी वाले निविदा ठेका उक्त ट्रवल्स माफिया गुप्ता की एजेन्सियों को दिया जा रहा है।

आल इंडिया सोशल आर्गेनाइजेशन का आरोप है कि बिना राज्य कामगार बीमा निगम के प्रमाण के उक्त ट्रैवेल्स एजेन्सियों का टेंडर कैसे पास कर दिया गया ? जबकि ESIC पंजियन एवं श्रमिकों के नाम ESIC राशि भुगतान की चालान संलग्न किये बिना टैक्नीकल बीट की निविदा पास नही किया जा सकता है। तत्सबंध में जल्द ही केन्द्रीय कोयला मंत्रालय भारत सरकार नई दिल्ली,कोल इंडिया कंपनी मुख्यालय कोलकाता,मुख्य प्रधान सचिव कोयला खान मंत्रालय, मुख्य प्रबंध निदेशक तथा सतर्कता आयुक्त, सतर्कता भवन, भारत सरकार नई दिल्ली से जबाव मांगा जाएगा।

यदि मामले की जांच-पड़ताल की गई तो वेकोलि के उपक्षेत्रीय प्रबंधकों से लेकर महाप्रबंधकों,वित्तीय अधिकारी,आडिट अधिकारी, निविदा कमेटी सहित अनेक अधिकारियों पर कार्यवाही की गाज गिर सकती है ? वेकोलि मुख्यालय के गोपनीय सूत्रों की माने तो बिना ESIC क्लीरिएंस प्रमाणपत्र के बिना किसी भी प्रकार के कार्यों की निविदा ठेका पास नहीं किया जा सकता है। राज्य शासन हो या केन्द्रीय सरकार के विभागों में ESIC भुगतान का प्रणाण बहुत ही मायने रखता है। वैसे भी राज्य कामगार बीमा निगम(ESIC) विभाग केन्द्र सरकार के अधिनस्थ संचालित है।

बताते हैं कि उक्त ट्रैवेल्स माफिया की वेकोलि में गहरी पैठ हैं। वह अधिकारियों को अपने कुकृत्य में शामिल कर रखा हैं। वह फर्जी दस्तावेज तैयार करवाने मे भी पीछे नहीं है। आरोप के मुताबिक ट्रैवेल्स माफिया ने अभी तक यातायात पुलिस-प्रशासन,पुलिस स्टेशन प्रभारी-थानाध्यक्ष ,PF इंस्पेक्टर,ESIC इंस्पेक्टर न्युनतम वेतन निरीक्षक, श्रम अधिकारियों,श्रम आयुक्त विभाग तथा उधोग व कामगार विभागों के प्रभारी अधिकारियों को मुंह मांगे रिश्वत ले-देकर मामलों की लापापोती करवा चुका है। इस ट्रैवेल्स माफिया पर वाहनों की खरीदी बिक्री आदि का आरोप है ? जिसमे एक ही नंबर की दो- दो वाहन चलाने के मामले में गिरफ्तार हो चुके हैं।

गुप्ता आये दिन जलसा आयोजित करता रहता हैं,जिसमें प्रमुखता से वेकोलि अधिकारी शामिल होते रहने की विशेष खबर हैं.इन्हीं वेकोलि अधिकारियों के शह पर वेकोलि को बड़ा चुना लगता रहा हैं.

गुप्ता राज्य परिवहन नियमों का उलंघन, आयकर चोरी, जीएसटी चोरी ,जीवन बीमा चोरी,बिक्रीकर चोरी, रोड टैक्स की चोरी और फर्जी दस्तावेज के जरिए वाहनों की चोरी,अफरातफरी करके सरकार की तिजोरी में डाका डाला है। इतना ही नहीं उसने भंडारा, गोंदिया,नागपुर तथा चंद्रपुर के RTO अफसरों की खरीद फरोख्त और चोरी करके करोडों का घोटाला और फर्जीवाडा कर चुका है ?

बताते हैं कि मजदूर शोषण और आर्थिक अपराध के माध्यम से अर्जित करोडों रुपयों कर सहयोगियों में वितरित करने की गर्मागरम चर्चा हैं.

उक्त ट्रैवेल्स माफिया के अनुसार वह आगामी गोंदिया य भंडारा विधानसभा से विधायक के लिए चुनाव मैदान मे उतरने की तैयारी कर रहा है ? गुप्ता का मानना है कि इसके लिए वह हर तरीके से तैयारी कर रहा हैं.