Published On : Sat, Sep 27th, 2014

भंडारा : सर्वोत्तम शिक्षा दें और अधिकारों के लिए संगठित हों


शिक्षक विधायक ना. गो. गाणार ने किया आवाहन

gonar
भंडारा 
शिक्षकों की स्थिति टायटनिक जहाज के डूबे हुए यात्रियों जैसी हो गई है. भले ही अभी शिक्षकों का विशाल जहाज पूरी तरह से डूबा न हो, लेकिन वह अपने यात्रियों को अब आगे सुरक्षित तो नहीं ही ले जा सकता. शिक्षक विधायक ना. गो. गाणार ने यह विचार व्यक्त करते हुए शिक्षकों का आवाहन किया कि वे बच्चों को सर्वोत्तम शिक्षा देने के लिए जुटे रहें, साथ ही अपने अधिकारों की प्राप्ति के लिए संगठित भी हों, महाराष्ट्र राज्य शिक्षक परिषद की भंडारा जिला इकाई द्वारा मोहाड़ी तालुका शिक्षक सम्मेलन में वे बोल रहे थे. इस सम्मेलन में उच्च माध्यमिक विभाग के एक सौ से अधिक शिक्षकों ने हिस्सा लिया. सम्मेलन की अध्यक्षता विभागीय अध्यक्ष डॉ. उल्हास फडके ने की, जबकि प्रमुख अतिथि के रूप में अशोक तेलपांडे, जिलाध्यक्ष अशोक वैद्य, अंगेश बेहलपाडे व राज्य महिला आघाड़ी प्रमुख पूजा चौधरी उपस्थित थे.

इस अवसर पर सभी विभागों के शिक्षकों की समस्याओं, गुणवत्ता में वृद्धि, जिला परिषद के शिक्षकों का वेतन विलंब से होने, शिक्षकों का समायोजन, कनिष्ठ महाविद्यालयों के अतिरिक्त शिक्षकों का समायोजन करने जैसे मुद्दों पर चर्चा की गई. श्री गाणार ने पैसा लेकर काम करने वाले शिक्षकों के खिलाफ विशेषाधिकार हनन की कार्रवाई करने की मांग की. संचालन प्रा. जितेंद्र टिचकुले और आभार प्रदर्शन प्रा. शशांक चोपकर ने किया. कार्यक्रम में गुणवंत क्षीरसागर, प्रा. ईश्वर चव्हाण, मुकेश कुर्झे, गणेश सार्वे, प्रा. प्रशांत धकाते, माधुरी घोडेस्वार, संदीप बचेरे, प्रा. रविंद्र धुर्वे, प्रा. प्रेमा बेदरकर सहित अनेक शिक्षक उपस्थित थे.

Advertisement

Advertisement
Advertisement
Advertisement
 

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement