Published On : Sat, Sep 27th, 2014

काटोल : जिला बैंक काट रहा शिक्षकों के वेतन से ब्याज

jila bank, katol
काटोल। 
पिछले जनवरी माह से जिला मध्यवर्ती सहकारी बैंक की आर्थिक परिस्थिति डगमगाई है. इसका परिणाम हर खातेदार को उठाना पड़ रहा है. मार्च महीने से शिक्षकों का वेतन नियमित राष्ट्रीयकृत बैंक से हो रहा है.लेकिन जिले के चार हजार शिक्षकों ने ओव्हर ड्राफ्ट के रूप में कर्ज लिया है. जिला बैंक से वेतन होने पर बैंक केवल ब्याज की रकम शिक्षकों से हर माह वसूल कर रही थी. लेकिन राष्ट्रीयकृत बैंक से वेतन शुरू होने के बाद बैंक, ब्याज और मुद्द्ल की रकम 66 हफ्तों में ओव्हर ड्राफ्ट कर्ज की वसूली शुरू करेगी. उसके बाद मार्च से महीने से हफ्तों की कटौती वेतन से हो रही है. लेकिन अभीतक दो ही हफ्तों का रिकॉर्ड खांतो में दर्ज किया गया है. ब्याज दरमाह लगाकर चक्रिब्याज तरीके से ब्याज का आकलन हो रहा है. लेकिन मुद्द्ल कम नही हो रही.

इस संदर्भ में महाराष्ट्र राज्य प्राथमिक समिति ने गट शिक्षणाधिकारी और शाखा व्यवस्थापक को निवेदन देकर, जबतक बैंक आर्थिक व्यवहार ठिक तरह से शुरू नहीं करती और रिज़र्व बैंक अनुमति देती नहीं तब तक शिक्षकों के वेतन से कटौती ना करे. ऐसी सख्त मांग म.रा.प्राथमिक शिक्षक समिति शिष्टमंडल ने निवेदन से की है. शिष्टमंडल में म.रा.प्राथमिक शिक्षक समिति के जिलाउपाध्यक्ष विलास कालमेघ, कार्याध्यक्ष श्रीकृष्ण भोयर,सरचिटनीस विजय बरडे,मनोहर पठाडे, गणेश जोगेकर, घनश्याम भंडागे, ओमप्रकाश धुर्वे, अभिमन्यु वंजारी, योगेश राउत की प्रमुख उपस्थिति थे. इस दौरान बैंक शाखा व्यवस्थापक चंद्रकांत पाटिल साथ ही ओव्हर ड्राफ्ट निरीक्षक पिंपलखुटे से संपर्क करने पर उन्होंने कहा की व्यवहार के बंद समय में ब्याज नहीं लगाया जायेगा. इसके लिए सभी शाखाओं को पत्रों द्वारा सूचित किया जायेगा.