Published On : Sat, Nov 24th, 2018

समस्या हल करने वार्ड अधिकारी न सुनें तो सीधे मुझसे करें संपर्क : मनपायुक्त अभिजीत बांगर

नागपुर : नागपुर महानगरपालिका के नए आयुक्त अभिजीत बांगर ने नागपुर के रहवासियों खासकर करदाताओं से अपील की कि अगर सम्बंधित वार्ड अधिकारियों ने समस्याएं नहीं सुलझाईं तो सीधे आयुक्त अर्थात मुझसे संपर्क करें.

मनपा का कार्यभार संभालते ही बांगर ने स्पष्ट किया था कि उनके लिए जनता सर्वोपरि है, इसके साथ ही सभागृह और सत्तापक्ष के निर्देशों का पालन भी उतना ही अहम होगा.

आयुक्त बांगर ने कहा कि मनपा में विभिन्न समस्याएं लेकर जनता आती है. क्यूंकि शहर संचालन के लिए समूचे शहर को १० ज़ोन कार्यालयों में विभक्त किया गया है. समस्या होने पर सबसे पहले ज़ोन के वार्ड अधिकारी से मिलें. उन्होंने नज़रअंदाज किया तो सीधे मुझसे मिले. मनपा कर्मियों और अधिकारियों में डर रहना चाहिए कि जोन स्तर पर उन्होंने जनता का समाधान नहीं किया तो वे वरिष्ठ अधिकारियों तक अब आसानी से पहुँच सकते हैं.

शहर स्वच्छता की जिम्मेदारी मनपा प्रशासन की है. आनेवाले दो माह मनपा का ध्यान स्वच्छता अभियान पर लगा रहेगा. निसंदेह जनता का भी सहयोग अपेक्षित माना जा रहा है. शहर को स्मार्ट सिटी में बदलने के लिए अगले ३० दिनों में पैन सिटी का काम शुरू हो जाएगा. एक तरफ आयुक्त की पहल, तो दूसरी ओर मंगलवारी जोन के स्वास्थ्य अधिकार बोकारे, निरीक्षक नानेटकर की पहल पर जमीन आसमान के अंतर से जनता पशोपेश में है.

बांगर के अनुसार मनपा की स्थिति निसंदेह चिंतनीय है. इसे सक्षम बनाने के लिए खुद के आय स्त्रोतों को मजबूत करना होगा. अब चूंकि जीएसटी ८६.५० करोड़ मासिक तक पहुंच चुका है. मासिक तय खर्च आसानी से निकल जाएगा. अब शहर विकास के लिए खुद की आय को बढ़ाना अनिवार्य हो गया है.

इसके लिए मनपा कर्मियों को भी छुट्टी के दिनों में काम करना पड़ेंगा. कामों में गुणवत्ता को लेकर कभी समझौता नहीं किया जाएगा. २४ बाय ७ जलापूर्ति हो नहीं सकी. उपजे अड़चनों को सुलझाने का प्रयास किया जाएगा. शहर के लिए पार्किंग पालिसी तैयार की गई है, जिसे जल्द अमल में लाया जाएगा. मनपा की खाली जगहों के सदुपयोग पर चिंतन किया जा रहा है. मनपा परिवहन सेवा का घाटा कम करने और ज्यादा से ज्यादा जनता इस सेवा का लाभ ले सके, इसलिए कुछ बदलाव की सख्त जरूरत है. भांडेवाड़ी प्रकल्प के ठेकेदार की कालावधि समाप्ति पर है, नई निविदा जारी की जाएगी. इंदौर की तर्ज पर साफ़-सफाई प्रकल्प शुरू किए जाने पर विचार -विमर्श शुरू है.

३२० एमएलडी प्रदूषित पानी रोज शहर से निकलता होता है. जिसमें से १५० एमएलडी पानी एनटीपीसी को दिए जाता है. नाग नदी के साथ पीली नदी प्रकल्प जापान के सहयोग से साकार किया जाएगा. जिसके लिए २७ नवंबर को जापान का शिष्टमंडल नागपुर आ रहा है.

उल्लेखनीय है कि शहर में अनाधिकृत बस्ती और अतिक्रमण बड़ी समस्या है. शहर के कुछ गिने-चुने इलाकों में बाजार होने के कारण भीड़ इन्हीं इलाकों में देखी जाती है. इसलिए इन समस्याओं से निजात पाने के लिए व्यवसायिक संकुलों को तैयार करने का प्रयत्न किया जाएगा. इसके साथ ही फुटपाथ के अतिक्रमण से जल्द मुक्ति दिलवाई जाएगी.


जनता/करदाता सर्वोपरि हैं,विभागीय/विभाग प्रमुख स्तर पर समस्या न सुलझने या असंतुष्ट होने पर आयुक्त ने उनसे सीधा संपर्क करने का आव्हान किया हैं.

मनपा आयुक्त अभिजीत बांगर से संपर्क करने के लिए मोबाइल क्रमांक 8888842212 पर संपर्क कर सकते हैं,

अगर वे आपका कॉल पर जवाब न दे तो समझे कि वे व्यस्त हैं,ऐसे में उनके मोबाइल पर साधारण संदेश भेज उनका समय लें या फिर उन्हें जानकारी दे.इसके साथ ही उनके निजी सहायक अनिल पाटिल का मोबाइल क्रमांक 9823245683 पर संपर्क करने आयुक्त से मुलाकात का समय लिया जा सकता हैं.