Published On : Tue, May 24th, 2022
nagpurhindinews | By Nagpur Today Nagpur News

जेईई और नीट के छात्रों के लिए अब आईकैड का ऑनलाइन ऐप

Advertisement

नागपुर – कोविड ने समग्र रूप से शिक्षा क्षेत्र और शिक्षा प्रणाली की परिभाषा ही बदल दी है। शिक्षा के क्षेत्र में अप-टू-डेट तकनीक का उपयोग और उसका महत्व काफी बढ़ गया है। इसी बीच, आईकैड ने समय के साथ चलने का फैसला किया है और जेईई और एनईईटी छात्रों के लिए एक ऑनलाइन ऐप लॉन्च किया है। न केवल छात्रों बल्कि शिक्षकों के लिए ‘फार्स’ (एफएआरएस) और माता-पिता के लिए (पैरेंट कनेक्ट ऐप) एक अलग ऑनलाइन ऐप लॉन्च किया।

आयकॅड की सॉफ्टवेयर टीम ने पिछले साल अभियान शुरू किया था और अब इसके अच्छे परिणाम देखने को मिल रहे हैं। 50 लोगों की टीम ने इस ऐप को बनाया है। आयकॅड के ऐप का उपयोग करते समय आने वाली कठिनाइयों को दूर करने के लिए, टीम ने 1.5 लाख से अधिक प्रश्नों की जांच की और उन्हें अपलोड किया। छात्रों के निजी डेटा को क्लाउड में संग्रहीत किया जाता है और छात्र अपने व्यक्तिगत लॉगिन के आधार पर उस डेटा को किसी भी समय देख सकते हैं। इसलिए पढ़ाई में छोटी-मोटी दिक्कतों के लिए या हर घंटे विषय के नोट्स लेने की जरूरत है। इसके लिए छात्रों के पास खुद का टैबलेट होना अनिवार्य है।

Advertisement

ऐप में कई विशेषताएं हैं जैसे कि डिकोड – दैनिक अध्ययन की कठिनाइयाँ, अभ्यास प्रश्न, रिवाइंड – छात्रों को अपना स्वयं का परीक्षण, स्ट्रॉन्ग बॉक्स – प्रत्येक अध्याय के अनुसार केवीवाईपी और ओलंपियाड में पिछले साल के प्रश्न, विभिन्न परीक्षण और विश्लेषण। आयकॅड ऑनलाइन ऐप में ‘डिस्कवर स्टोरीज’ नाम का फीचर भी है। यह आईसीएडी विशेषज्ञों के साथ-साथ विशिष्ट पूर्व छात्रों द्वारा विभिन्न प्रकार की अध्ययन तकनीकों और उत्साहजनक व्याख्यान प्रदान करता है। SRB फीचर छात्रों को इन दोनों प्रकार के प्रश्नों का उत्तर के साथ और बिना उत्तर के अध्ययन करने की अनुमति देता है।
“यह आयकॅड के ऑनलाइन समर्थन की शुरुआत है,” आयकॅड के निदेशक सारंग उपगनलावर ने बताया। चूंकि हमारे पास इसके लिए एक अलग सिस्टम है, इसलिए निकट भविष्य में ऐप पर कई नए बदलाव देखने को मिलेंगे। टीम ने ऐप लर्निंग, चौबीसों घंटे रखरखाव और अपग्रेड सपोर्ट में भी मदद की।’
माता-पिता को अब अपने बच्चे की पढ़ाई में प्रगति के बारे में जानने के लिए सीधे संपर्क करने की आवश्यकता नहीं है।

इसके लिए ‘iCad पैरेंट कनेक्ट’ नाम से एक अलग ऐप विकसित किया गया है। इस पर माता-पिता अपने बच्चों की दैनिक प्रगति की जांच कर सकते हैं। वहीं, आईसीएडी फैकल्टी एप के माध्यम से प्रोफेसरों के लिए छात्रों की प्रगति की जांच करना और उसके अनुसार दिशा तय करना आसान हो गया है।

आयकॅड प्रबंधन ने कहा कि, जेईई और नीट की तैयारी कर रहे देश भर के छात्रों के लिए आयकॅड अकादमिक ईआरपी और मुफ्त मेंटरिंग सुविधाओं की भी जल्द ही घोषणा की जाएगी। यह महत्वपूर्ण है कि विदर्भ में नंबर एक संगठन, आईसीएडी ने छात्रों, प्रोफेसरों और अभिभावकों के जीवन को और अधिक आरामदायक बनाने के लिए नवीनतम तकनीक का उपयोग करना शुरू कर दिया है।

Advertisement

Advertisement
Advertisement
 

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement