Published On : Mon, Jun 4th, 2018

मै चाहता हूँ मुस्लिम संघ से जुड़े लेकिन संघ की तरफ़ से कोई पहल नहीं हो रही – मोहम्मद फ़ारुख़

Mohammad Faruq

नागपुर: मुस्लिमों को संघ के साथ ज़ोडने के प्रयासों के बीच मुस्लिम राष्ट्रीय मंच के महाराष्ट्र राज्य संयोजक मोहम्मद फ़ारुख़ शेख ने संघ की मंशा पर सवाल उठाए है। मुस्लिम राष्ट्रीय मंच, संघ से जुडी हुई एक संस्था है जो राष्ट्रवादी विचारधारा को मानाने वाले मुसलमानों को एक जुट करने का काम कर रही है। संघ के राष्ट्रीय कार्यकारणी सदस्य इंद्रेश कुमार इस संस्था के मार्गदर्शन है। फ़ारुख़ के अनुसार वो संघ की विचारधारा को मानाने वाले सच्चे सिपाही है, उन्हें ये विचारधारा सही लगती है इसलिए वो अन्य मुसलमानों को भी जोड़ना चाहते है।

फ़ारुख़ का कहना है की संघ को लेकर मुस्लिम समाज में कई गलत धारणाएँ है जिसे बदलने का वो प्रयास वर्षो से कर रहे है। मुस्लिम समाज संघ को लेकर अपनी सोच बदले इसलिए वो बीते दो महीने से कोशिश कर रहे थे कि रेशमबाग मैदान स्थिति डॉ हेडगेवार स्मृति मंदिर में रमज़ान के महीने में मुसलमानों के लिए इफ़्तार पार्टी का आयोजन किया जाये। इसके लिए उन्होंने महानगर संघचालक राजेश लोया और मंच राष्ट्रीय संयोजक विराग पाचपोर से कई बार निवेदन किया लेकिन उन्हें मना कर दिया गया।

फ़ारुख़ के मुताबिक उन्हें दलील दी गई कि ऐसा होने पर विवाद खड़ा होगा लेकिन उन्होंने यह समझाने के लिए हमेशा प्रयास किया की अगर ऐसा हो जाता है तो मुस्लिम समाज के मन में संघ का आदर और बढ़ जायेगा। समाज के लोग सहज भाव से संघ से जुड़ने में दिलचस्पी लेंगे। वैसे भी जब बौद्ध,सिख समाज संघ से जुड़ सकता है तो मुस्लिम समाज क्यूँ नहीं, मैं संघ का निष्ठावान कार्यकर्त्ता होने के नाते सीधे जुड़ाव का हक़ माँगने का प्रयास कर रहा हूँ लेकिन खुद आरएसएस इस पर कोई पहल करने से बच रहा है।

राज्य के संयोजक होने के नाते मैंने इंद्रेश जी के मार्गदर्शन में कई काम किये। हालही में मुस्लिम समाज की तलाक पीड़ित महिलाओं को पेंशन की योजना शुरू की। राष्ट्रीय मुस्लिम मंच द्वारा सोमवार को मुंबई स्थिति सरकारी गेस्ट हॉउस सह्यद्री में इफ़्तार का कार्यक्रम रखा गया लेकिन इसकी जानकारी उन्हें ही नहीं है। फारुख ने बताया उन्हें पता चला है की किसी ने इरफ़ान पीरज़ादा नामक किसी व्यक्ति ने इसका आयोजन किया है लेकिन वो कौन है ये उन्हें ही नहीं पता। इस कार्यक्रम में इंद्रेश कुमार ने भी भाग लिया,जिनसे फोन बात कर फ़ारुख़ ने अपनी बात रखी। फ़ारुख के मुताबिक इंद्रेश कुमार ने उन्हें आगामी 20 जून को होने वाली मुस्लिम राष्ट्रीय मंच की बैठक में यह मुद्दा रखने की सलाह दी है।