Published On : Wed, Jun 30th, 2021

इंटक की याचिका में की गई मांग से उच्च न्यायालय नहीं हुआ संतुष्ट

– प्रतिवादियों को को शपथ पत्र प्रस्तुत करने के लिए चार सप्ताह का समय दिया गया है। जबकि याचिकाकर्त्ता को दो सप्ताह में जवाब प्रस्तुत करना होगा। इसके बाद आठ सप्ताह में मामले में फिर सुनवाई होगी। तब रिट मेंटेन है या नहीं इस पर विचार किया जाएगा।

नागपुर/कोलकाता -मंगलवार को डा. जी संजीवा रेड्डी के नेतृत्व वाले इंटक से सम्बद्ध राष्ट्रीय खान मजदूर फेडरेशन द्वारा दायर याचिका पर सुनवाई हुई। बताया गया है कि कलकत्ता उच्च न्यायालय की सिंगल बेंच के न्यायाधीश मोहम्मद निजामुद्दीन JBCCI में इंटक को प्रतिनिधित्व देने और फैसला होने तक JBCCI की प्रक्रिया पर रोक लगाने संबंधी याचिका पर संतुष्ट नहीं हुए यानी अंतरिम आदेश पारित करने से इंकार किया। न्यायालय में फेडरेशन की ओर से अधिवक्ता विक्टर चटर्जी उपस्थित हुए।

न्यायालय ने कहा कि वो मामले में सभी पार्टी यानी अन्य यूनियन और CIL प्रबंधन को भी सुनेगा। प्रतिवादियों को को शपथ पत्र प्रस्तुत करने के लिए चार सप्ताह का समय दिया गया है। जबकि याचिकाकर्त्ता को दो सप्ताह में जवाब प्रस्तुत करना होगा। इसके बाद आठ सप्ताह में मामले में फिर सुनवाई होगी। तब रिट मेंटेन है या नहीं इस पर विचार किया जाएगा।

प्रतिवादी कोल कम्पनी समेत अन्य ने मेंटनेबल नहीं कहकर याचिका का विरोध किया तथा कहा कि ऐसे ही एक सिविल सूट दिल्ली उच्च न्यायालय में लंबित है। न्यायाधीश ने कहा कि रिकॉर्ड के अनुसार ‘DISPUTE OF FAC’T है तथा इसका निष्पादन AFFIDAVIT देखने के बाद ही सम्भव है।

न्यायालय के निर्देश से याचिकाकर्ता पशोपेश में हैं,करें तो क्या करें ?

इधर,बताया गया है कि उच्च न्यायालय ने चंद्रशेखर दुबे (ददई गुट) के आवेदन को नहीं माना है। कोर्ट ने कहा, इसे बाद में देखेंगे।

उल्लेखनीय यह हैं कि नेशनल कोल वेज एग्रीमेंट(NCWA) – 11 के लिए गठित JBCCI से इंटक(INTUC) को बाहर रखने के खिलाफ डा. जी संजीवा रेड्डी के नेतृत्व वाले इंटक से सम्बद्ध राष्ट्रीय खान मजदूर फेडरेशन ने कोलकाता उच्च न्यायालय में 21 जून, 2021 को याचिका दायर की थी।

उच्च न्यायालय द्वारा JBCCI को लेकर किसी प्रकार का कोई ‘स्टे’ नहीं दिए जाने से फिलहाल इसकी बैठक को लेकर रास्ता साफ हो गया है। JBCCI -11 के गठन के बाद इसकी बैठक नहीं हो सकी है। CIL ने आज 30 जून को वर्चुअल बैठक का प्रस्ताव दिया था,लेकिन यूनियन ने इसे नकार दिया था। यूनियन PHYSICALLY बैठक करना चाहता है।

JBCCI -11 में BMS व HMS के 4-4 एवं CITU व AITUC से 3-3 प्रतिनिधि सम्मिलित किए हैं। INTUC को इससे बाहर रखा गया है।