Published On : Tue, Jan 30th, 2018

हेमामालिनी ने इम्पेरियन में बनने वाले इस्कॉन मंदिर की प्रसंशा की

Advertisement


नागपुर: अंतर्राष्ट्रीय कृष्ण भावनामृत संघ (इस्कॉन) के संस्थापकाचार्य ए. सी. भक्तिवेदांत स्वामी श्री ल प्रभुपाद की इच्छा से व उनके शिष्य श्रील लोकनाथ स्वामी महाराज की प्रेरणा से मिहान के पास फायर आर्कर द्वारा दान में दी गयी भूमि पर इम्पेरियन टाउनशिप में जो इस्कॉन का भव्य मंदिर बन रहा है उस प्रोजेक्ट की प्रसंशा फिल्म अभिनेत्री एवं मथुरा-वृन्दावन की भा.ज.पा. सांसद हेमा मालिनी ने की।

हेमा मालिनी के नागपुर प्रवास के दौरान एक मीटिंग इस्कॉन के पदाधिकारियों के साथ हुयी जिसमे प्रमुख रूप से इस्कॉन नागपुर के अध्यक्ष गौर कृष्ण दास, कोषाध्यक्ष पार्थ दास, आई.वी.सी.सी. प्रोजेक्ट कोऑर्डिनेटर अभय गौरांग दास, आई.वी.सी.सी. सेक्रेटरी कपिल गुप्ता आदि उपस्थित थे। अभय गौरांग दास ने लैब टॉप पर पूरे प्रोजेक्ट एवं बनने वाले मंदिर के डिजाईन की जानकारी देते हुए बताया कि यह मंदिर अंतर्राष्ट्रीय स्तर का होगा तथा इसमें 9 डी थिएटर, गोविंदाज रेस्टोरेंट, इसके साथ ही ७ डी. पाथवे (रास्ता) रहेगा।

जब कोई भी भक्त कार पार्किंग से मंदिर में प्रवेश करेगा तब होलोग्राम में भगवान श्री कृष्ण की विभिन्न लीलाओं का दर्शन होगा। साथ ही साउंड एवं लाइट शो भी होगा। मंदिर के चारों ,तरफ पानी रहेगा तथा मंदिर की पूरी इमेज पानी में दिखेगी। अंतर्राष्ट्रीय स्तर का गेस्ट हाउस एवं कांफेर्रेंस हॉल रहेगा। यह सब देख कर हेमा मालिनी ने कहा इसकी डिजाईन यूनिक है तथा यह मंदिर बाकि इस्कॉन मदिरों.से कुछ अलग रहेगा। उन्होंने यह भी कहा की इस प्रोजेक्ट को ऐसा बनाओ कि ज्यादा से ज्यादा टूरिस्ट आ सके एवं नागपुर का आकर्षण का केंद्र रहे तथा वैदिक कल्चर का प्रचार प्रसार हो सके।

Advertisement
Advertisement

अन्नामृत फाउंडेशन नागपुर के अध्यक्ष एवं इस्कॉन के प्रवक्ता डॉ. श्यामसुंदर शर्मा ने इस बैठक की विस्तृत जानकारी देते हुए बताया कि हेमा मालिनी ने वादा किया है कि “जब भी इस प्रोजेक्ट का भूमि पूजन होगा में अवश्य आउंगी तथा कार्यक्रम भी प्रस्तुत करुँगी”। इस कार्यक्रम के लिये इस्कॉन से कोई मानधन भी नहीं लेगी। उन्होंने इस प्रोजेक्ट के सफलता की कामना श्री श्री राधा गोपीनाथ से की।

Advertisement

Advertisement
Advertisement
 

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement