Published On : Wed, Jul 12th, 2017

जीएसटी मतलब गड़बड़, बाजार वीरान और व्यापारी सम्भ्रम की स्थिति में – राजेंद्र मूलक

Rajendra Mulak
नागपुर:
 जीएसटी के नए टैक्स प्रणाली के कारण एक नई परेशानी शुरू हो चुकी है. जिसके कारण बाजार वीरान है और व्यापारी उलझन में दिखाई दे रहे हैं. जीएसटी की नई कार्यप्रणाली से हो रही परेशानियों को लेकर यह प्रतिक्रिया नागपुर जिला ग्रामीण कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष राजेंद्र मूलक ने दी है. उन्होंने सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि जीएसटी से सब कुछ अच्छा होगा ऐसा चित्र सभी ओर पेश किया जा रहा है. लेकिन नई कर प्रणाली की जानकारी व्यापारियों को नहीं दी गई है. साथ ही इसके जीएसटी को समझने के लिए व्यापारियों को समय भी नहीं दिया गया. सरकार के इस निर्णय के कारण देश के व्यापारी पशोपेश की स्थिति में फंसते नजर आ रहे हैं.

मूलक ने अपनी नाराजगी जाहिर करते हुए अनेक वर्षों से राज्य और देश के व्यापारी पारम्परिक तौर पर अपना व्यवसाय कर रहे हैं. एक जगह बैठकर अपना लेखा जोखा लिखनेवाला व्यापारी एक रात में कंप्यूटर कैसे चलाएगा, यह सरकार मान रही है. उन्होंने बताया कि नए बिल से किसी को कोई आपत्ति नहीं थी. खुद कांग्रेस पार्टी ने ही बिल को लाने की पहल की थी. लेकिन इसको लागू करने से पहले व्यापारियों को सम्पूर्ण जानकारी दी जानी चाहिए थी. साथ ही इसके उनकी मानसिकता बदलने के लिए भी सरकार को प्रयत्न करने चाहिए थे. इसके लिए व्यापारियों को प्रशिक्षण भी दिया जा सकता था. लेकिन सरकार ने ऐसा कोई भी उपयुक्त कदम नहीं उठाया. जिससे व्यापारी और ग्राहकों दोनों ही में सम्भ्रम की स्थिति बनी हुई है.

जीएसटी लागू हुए एक सप्ताह से ज्यादा का समय हो चुका का है. कौन सी वस्तु पर कितना टैक्स है और ग्राहकों से वह वसूल करना है या नहीं इसकी कोई भी जानकारी व्यापारियों के पास नहीं है. सरकार के द्वारा यह स्पष्ट भी नहीं किया गया है. इसमें कई नई वस्तुओं का भी समावेश किया गया है. जिसकी जानकारी भी व्यापारी और ग्राहकों को नहीं है.