Published On : Fri, Nov 2nd, 2018

‘इकोफ्रैंडली दिवाली’ मनाने की ग्रीन विजिल ने की अपील

नागरिकों को पटाखे कम जलाकर पर्यावरण को बचाने का दिया संदेश

नागपुर : शहर की जानी-मानी ग्रीन विजिल पर्यावरण संस्था ने ‘ इकोफ्रैंडली दिवाली ‘ मनाने का अभियान चलाया है. इस अभियान के अंतर्गत शंकर नगर चौक एवं वैरायटी चौक पर संस्था के कार्यकर्ताओं ने विभिन्न पोस्टर, प्लेकार्ड्स के जरिए लोगों से अत्याधिक् तादाद में पटाखे न जलाने का निवेदन किया है. संस्था के कार्यकर्ताओं ने आम जनता से पटाखों से होनेवाले ध्वनि प्रदूषण और वायुप्रदूषण के बारे में भी चर्चा की.

ग्रीन विजिल संस्था के संस्थापक कौस्तुभ चटर्जी ने इस दौरान बताया कि पटाखों के फटने से भारी मात्रा में ‘कैडमियम’ एवं ‘लेड’ जैसे हेवी मेटल्स का उत्सर्जन होता है. इसी के साथ साथ कॉपर, जिंक, सोडियम, पोटैशियम जैसे धातुओं का भी उत्सर्जन होता है. इससे वातावरण में सस्पेंडेड पर्टिकुलेट मैटर और धुएं की मात्रा बढ़ जाती है. जिससे नागरिकों को दमा, सिरदर्द, रक्तचाप में वृद्धि, स्किन एलर्जी, आंखों में जलन, सांस की समस्याएं आदि काफी मात्रा में बढ़ जाती है. इसलिए हमें पटाखों को जलाने से परहेज करना चाहिए.

ग्रीन विजिल की टीम लीड सुरभि जैस्वाल ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले का स्वागत किया. जिसके तहत पटाखे फोड़ने के समय को रात 8 से 10 बजे तक सीमित किया गया है. हालांकि उनका मानना है कि इस फैसले को लागू करना कठिन है. सुरभि ने कहा कि इस अभियान में उन्हें नागरिकों का काफी अच्छा प्रतिसाद मिला है. काफी लोगों ने अपने वाहन रोककर संस्था के सदस्यों से इस विषय पर चर्चा की.