Published On : Wed, Aug 9th, 2017

विश्व आदिवासी दिन पर निकाली भव्य रैली, हजारों की तादाद में जुटे युवा


नागपुर:
9 अगस्त को विश्व आदिवासी दिन मनाया जाता है. बुधवार को इस अवसर पर हजारों की तादाद में युवाओं ने शहर में रैली निकालकर इस दिन को मनाया. विधानभवन चौक स्थित राजा बख्त बुलंद शाह की प्रतिमा को माल्यार्पण करने के बाद रैली छत्रपति चौक तक निकली. इस रैली में नागपुर जिले के हजारों युवक व युवतियां शामिल रहे. आदिवासी विद्यार्थी संघ विदर्भ के बैनर तले यह रैली निकाली गई. जिसके कारण बर्डी, संविधान चौक, झांसी रानी चौक व आस पास के सभी मार्गों का ट्रैफिक अस्त व्यस्त होता रहा.

रैली में शामिल युवाओं द्वारा मॉरिस कॉलेज चौक से गणेश टेकड़ी की तरफ जानेवाले मार्ग को रोके जाने के कारण और भी ज्यादा यातायात की समस्या निर्माण हो गई. हालांकि पुलिस बंदोबस्त भी इस दौरान तगड़ा था. हाथों में गोंडवाना के पीले झंडे और जय सेवा के नारों के साथ ही एक प्रमुख मांग को भी सरकार के सामने इन्होंने रखा. इन लोगों ने बताया कि विश्व आदिवासी दिन के अवसर पर सरकारी छुट्टी, स्कूल, कॉलेजों को छुट्टी नहीं दी जाती. जबकि यह आदिवासियों का बहुत बड़ा उत्सव है. सरकारी छुट्टी नहीं देना एक तरह से आदिवासियों पर सरकार द्वारा अन्याय करने के बराबर है.


इन्होंने मांग की है कि सरकार की ओर से विद्यार्थियों और कर्मचारियों को सरकारी छुट्टी घोषित की जाए. इस रैली की ख़ास बात यह रही कि इसमें कोई भी बुजुर्ग व्यक्ति शामिल नहीं था. रैली में युवतियां अपना पारंपारिक नृत्य करते हुए भी दिखाई दे रही थी. सभी युवाओं ने इस रैली की कमान संभाली. इस दौरान आदिवासी विद्यार्थी संघ विदर्भ के उपाध्यक्ष मुकेश नरोडे, सचिव शिवकुमार कोकोडे, सहयोगी प्रशील कोडापे, मुकेश नेताम, मंगेश गेडाम ने रैली का नेतृत्व किया.