Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!
    | | Contact: 8407908145 |
    Published On : Fri, Sep 8th, 2017
    nagpurhindinews | By Nagpur Today Nagpur News

    अतिक्रमण के साये में शहर के सरकारी कार्यालय

    Encroachment

    File Pic

    नागपुर: शहर के कई सरकारी कार्यालय इन दिनों अतिक्रमण की भेंट चढ़ते नजर आते हैं. इन्हीं सरकारी कार्यालयों में से एक प्रादेशिक वाहन कार्यालय जहां रोज हजारों की संख्या में लोग लर्निंग-परमानेंट लाइसेंस, पासिंग और रिनीवल के लिए आते हैं, लेकिन इन्हें तब बहुत अधिक दिक्कतों का सामना करना पड़ता है, जब इन्हें प्रादेशिक परिवहन कार्यालय की एंट्री गेट पर जमे हुए अतिक्रमण के बीच में से होकर गुजरना पड़ता है. चाय-नाश्ता, बिर्यानी, पान और और तो और टाइपिंग मशीन लेकर बैठने वालों का अतिक्रमण सुबह से आफिस छूटने तक बना रहता है.

    यहां चाय-नाश्ता करने वालों के साथ टाइपिंग के लिए आने वाले लोगों की गाड़ियों की पार्किंग सड़क पर ऐसी की जाती है कि यहां से वाहन निकालना बेहद मुश्किल हो जाता है. कई बार प्रादेशिक परिवहन अधिकारी द्वारा मनपा में इसके खिलाफ शिकायत भी की गई है. मनपा की ओर से एक बार कार्रवाई के बाद अपनी जिम्मेदारियों से पल्ला झाड़ा जा रहा है. जिससे स्थिति जस की तस बन जाती है.

    बना रहता है दुर्घटना का डर
    अमरावती रोड होने से दिन भर इस मार्ग पर छोटे-बड़े वाहनों की आवाजाही लगी रहती है. वहीं आसपास में कालेज होने से स्टूडेंट्स भी यहां से गुजरते हैं. इन अतिक्रमणकारियों की वजह से सड़कों पर लगने वाली अस्त-व्यस्त पार्किंग से हमेशा ही दुर्घटना का डर बना रहता है. कालेज के स्टूडेंट्स के साथ आरटीओ आने वाले लोगों को यहां के अतिक्रमण से काफी अधिक दिक्कतों का सामना करना पड़ता है.

    मनपा अधिकारियों द्वारा अतिक्रमणकारियों से नरमी बरते जाने से दिन-प्रतिदिन इनके हौसले बढ़ते जा रहे हैं. आरटीओ जाने वाले लोगों को बड़ी सतर्कता के साथ यहां से निकलना पड़ता है. इसके चलते आरटीओ के सामने दुर्घटना से इंकार नहीं किया जा सकता. इसी तरह का नजारा जिला कार्यालय के सामने और परिसर में भी देखा जा सकता है.

    उल्लेखनीय यह है कि जिला परिषद, जिलाधिकारी कार्यालय, महानगरपालिका, जिला न्यायालय, चैरिटी कार्यालय आदि परिसर भी अतिक्रमण की चपेट में है.

    Stay Updated : Download Our App
    Mo. 8407908145