Published On : Mon, Feb 22nd, 2021

गोंदिया: पुलिस ने नकली शराब बनाने की फैक्ट्री पकड़ी

हटा पर्दा-खुला राज़: मुनाफे के लिए सेहत से खिलवाड़

गोंदिया: जिले में केमिकल से नकली शराब बनाकर उसकी बिक्री करते हुए लोगों की सेहत से खिलवाड़ किए जाने का खेल कुछ शराब माफियाओं द्वारा अधिक मुनाफे की लालच में खेला जा रहा है।

इतना ही नहीं अलग- अलग ब्रांडेड लगी बोतलों में केमिकल युक्त नकली शराब भरकर हूबहू सील की जाती है इसके लिए अच्छी क्वालिटी के बक्सों का इस्तेमाल भी किया जाता है ताकि अंग्रेजी शराब असल दिखाई दे।

इस घटिया नकली शराब की सप्लाय होटल, ढाबों व आसपास के इलाके सहित शराबबंदी घोषित चंद्रपुर तथा गड़चिरोली जिले में लंबे समय से की जा रही है इस बात की पुख्ता जानकारी मिलने के बाद स्थानिक अपराध शाखा दल ने गोरेगांव तहसील के ग्राम हलबीटोला में तड़के कार्रवाई करते हुए केमिकल से तैयार की जा रही नकली शराब बनाने के कारखाने का पर्दाफाश किया है।


आम स्पिरिट में केमिकल मिलाकर डी नेचर की स्प्रिट से बनाई जाती थी शराब
हेमंत पद्माकर नामक कुख्यात शराब माफिया यह लंबे समय से अशोक गिरपूंजे नामक व्यक्ति के ग्राम हलबीटोला स्थित खेत परिसर का मकान किराए पर लेकर नकली शराब बनाने का कारखाना चला रहा है, इस बात की पुख्ता जानकारी मिलने पर जिला पुलिस अधीक्षक विश्‍व पानसरे के मार्गदर्शन में तथा एलसीबी निरीक्षक बबन अव्हाड़ के नेतृत्व में 19 फरवरी के तड़के उक्त कारखाने पर दबिश दी गई जहां 4 आरोपी बोतलों में नकली शराब भरकर सीलिंग तथा लेबलिंग करते हुए मिले, इस दौरान आरोपी हेमंत पद्माकर मौके से भाग निकला लेकिन तत्काल ही पीछा करते हुए पुलिस ने उसे कुछ ही देर में धरदबोच लिया।

बताया जाता है कि इस नकली शराब बनाने की फैक्ट्री में आम स्पिरिट में केमिकल मिलाकर डी नेचर की स्पिरिट बनाई जाती है जो कि स्वास्थ्य के लिए खतरनाक है , लंबे समय तक अगर घटिया शराब का सेवन किया जाए तो किडनी , लीवर आंखों पर इसका असर पड़ता है।

उक्त आरोपी जिस ब्रांड की बोतलों में शराब भरनी होती थी उसमें उसी रंग का कलर और एसेंस फ्लेवर ( सेंट ) मिला देते थे ताकि नकली शराब असली जैसी दिखाई दे ।

इस छापामार कार्रवाई के दौरान कारखाने से गोवा विस्की के 17 बॉक्सेस में भरे 848 नग बोतलें (कीमत 1.27 लाख), मेकडावल्स नं. 1 की नकली शराब की 31 बोतलें (कीमत 4650 रू), रॉयल स्टैग की नकली शराब भरी 18 बोतलें (3060 रू), नकली देशी शराब भरी 150 बोतलें ( किमत 7800 रूपये) तथा 4 बड़े ड्रमों में 800 लीटर नकली शराब तैयार करने का केमिकल (कीमत 4 लाख रू), अलग-अलग प्रकार के फ्लेवर, 2 मोपेड वाहन, 4 पुराने मोबाइल हैंडसेट, एक मोटर पंप, प्लास्टिक पाईस, ढक्कन, लेबल व अन्य सामग्री सहित कुल 6 लाख 74 हजार 710 रूपये का माल जब्त करते हुए आरोपी हेमंत पद्माकर (42 रा. गोरेगांव), हनीफ शेख (42), मेहताब पठान (38), नजीर सैय्यद (30), आशिक अली सैय्यद (30 सभी रहवासी कुल्हाड़ी त. गोरेगांव) को गिरफ्तार किया गया।

इस मामले में सभी आरोपियों के खिलाफ गोरेगांव थाने में धारा 328, सहकलम 65 (ई), (फ), 67, 83 महाराष्ट्र शराबबंदी कानून के तहत मामला दर्ज किया गया है।

इस कार्रवाई में एलसीबी उपनिरीक्षक तेजेंद्र मेश्राम, अभयसिंह शिंदे, सउपनि कापगते, बैस, करपे, पो.ना. रेखलाल गौतम, चितरंजन कोडापे, बिसेन, तुलसीदास लुटे, नेवालाल भेलावे, मपोसि सुजाता, खरबड़े, गौतम, मुरली पांडे, दिक्षीत दमाहे, धनजंय शेंडे, प्रभाकर पालांदूरकर आदि ने हिस्सा लिया।

-रवि आर्य