Published On : Mon, Sep 16th, 2019

गोंदिया की राजनीति हुई ‘बदरंग’

Advertisement

देर रात घटी घटना से राजनीतिक नफे-नुकसान का गुणा-भाग शुरू

गोंदिया। बड़े बुजुर्ग कहते है, कभी किसी का हक नहीं मारना चाहिए? एैसा करने से किसी के दिल को ठेंस पहुंचती है और एैसे में उसके दिल से निकली हुई आह.. कई मर्तबा पतन का कारण भी बन जाती है, लेकिन राजनीति का पाठ इसके उलट चलता है, यहां टिकट के जुगत में नेता साम, दाम, दंड, भेद की नीति अपनाकर पार्टी में बैकडोर इंट्री पाने की जुगाड़ में लगे रहते है। अब भला एक म्यान में 2 तलवारें कैसे रह सकती है? टकराहट होना तो स्वाभाविक है। कुछ एैसा ही परिदृश्य अब गोंदिया की राजनीति में उभरकर सामने आ रहा है, जिससे यह कहने में कोई अतिश्योक्ति नहीं कि अब गोंदिया की राजनीति का चेहरा बदरंग हो चला है।

Advertisement
Advertisement

26 ने दिया था इंटरव्यू, 3 कतारबद्ध

विधानसभा चुनाव का शोर शुरू हो चुका है लिहाजा बीजेपी पयर्र्वेक्षक, इच्छुक उम्मीदवारों का आवेदन स्वीकारने और उनका साक्षात्कार लेने पहुंचे, इस मर्तबा गोंदिया विधानसभा सीट से भाजपा का टिकट याने जीत की गारंटी ? यह मानते हुए 26 इच्छुकों ने आवेदन सादर कर साक्षात्कार की प्रक्रिया पूर्ण की।

सूत्रों की मानें तो इनमें से विनोद अग्रवाल, रमेशभाऊ कुथे, शिव शर्मा कतारबद्ध है। इसी बीच गोंदिया की राजनीति ने एक नया मोड़ ले लिया, पकी हुई खीर को खाने के लिए कोई चौथा ही पंगत में आकर बैठने की तैयारी कर चुका है। नेताजी के दलबदल की ओर बढ़ाये गए इस कदम से दोनों राष्ट्रीय पार्टियों के कार्यकर्ताओं में असमंजस की स्थिति बनी हुई है, लेकिन किसी के घर पर धावा बोलना और अपशब्दों का इस्तेमाल कर उसे अपमानित करना इसे लोकतांत्रिक पद्धति के लिहाज से कभी उचित करार नहीं दिया जा सकता?

विधायक के घर पर धावा, न.प. उपाध्यक्ष पर मामला दर्ज

दबावतंत्र के राजनीति की एक अनौखी मिसाल 15 सितंबर रविवार के रात 10.50 बजे शहर थाने से चंद कदम की दूरी पर स्थित शंकर गल्ली में दिखायी दी।

घटित प्रकरण पर हमने युवा काँग्रेस नेता राकेश ठाकुर से बात की तो उन्होंने जानकारी देते बताया, विधायक की सुरक्षा में तैनात 4 गार्ड डियुटी पर थे, इसी बीच गोंदिया नगर परिषद उपाध्यक्ष शिव शर्मा और उसके कुछ साथी शंकर गल्ली में पहुंचे तथा एक मकान के सामने खड़े होकर जोर-जोर से आवाज लगाते हुए गाली-गलौच करने लगे।

नीचे जनसंपर्क कार्यालय (दफ्तर) बंद था और विधायक रजेगांव में एक सभा को संबोधित करने हेतु गए हुए थे, घर पर विधायक के पुत्र और परिवार के सदस्य मौजुद थे, इसी दौरान यह घटना घटी।

पुलिस सूत्रों से प्राप्त जानकारी अनुसार घटना देर रात 10.50 पर घटित हुई। आरोपी यह, विधायक के घर के सामने आकर गाली गलौच कर रहा था, सुरक्षा में तैनात फिर्यादी गार्ड धीरज ने उसे रोकने का प्रयास किया तो आरोपी ने उसके साथ भी गाली-गलौच की और शासकीय कर्तव्य में रूकावट निर्माण की।

घटना की जानकारी मिलते ही वरिष्ठ पुलिस अधिकारी मौके पर पहुंचे, इसी बीच हुजुम के रूप में उमड़े समर्थकों से शांति बनाए रखने की अपील की गई तथा इस संदर्भ में सीसीटीवी फुटेज खंगालने के बाद अब शहर थाने में फर्यादी पुलिसकर्मी (सुरक्षा गार्ड) की शिकायत पर शिव शर्मा (45 रा. गोंदिया) के खिलाफ धारा 353, 294, 504 का जुर्म दर्ज किया गया है। मामले की जांच थाना प्रभारी बबन आव्हाड़ के मार्गदर्शन में जारी है।

हमने इस मामले पर जिला पुलिस अधीक्षक मंगेश शिंदे से उनकी प्रतिक्रिया लेनी चाही लेकिन उन्होंने फोन रिसिव नहीं किया तथा हमने घटित प्रकरण के संदर्भ में इस केस में नामजद किए गए न.प. उपाध्यक्ष शिव शर्मा से भी दूरभाष पर संपर्क साधा लेकिन उनके दोनों मोबाइल नंबर स्वीच ऑफ थे।

..रवि आर्य

Advertisement

Advertisement
Advertisement
 

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement