Published On : Thu, Jul 9th, 2020

गोंदिया: युवक की हत्या कर लाश खंडहरनुमा मकान में छिपा दी

जुर्म से पर्दा हटा , पुलिस ने हत्यारे को धर दबोचा

गोंदिया । गोंदिया तहसील के ग्राम काटी में मामूली बात को लेकर हुए विवाद के चलते एक युवक के सिर पर लोहा राड से दना-दन वार करते हुए उसे मौत के घाट उतार दिया गया तथा जुर्म पर पर्दा डालने के उद्देश्य से उसकी लाश खंडहरनुमा मकान में छिपा दी गई।

हुए मर्डर केस का खुलासा रावणवाड़ी पुलिस ने 24 घंटों के भीतर करते हुए आरोपी को सलाखों के पीछे पहुंचा दिया है।

इस संदर्भ में पुलिस ने जानकारी देते बताया, गोंदिया तहसील के ग्राम काटी निवासी भुमेश्‍वर रघु चौधरी (35) यह 6 जुलाई के सुबह 10 बजे घर से निकला था, जिसके बाद वह वापस घर नहीं लौटा।

इसी दौरान 8 जून को ग्राम काटी स्थित प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के निकट बंद पड़े एक खंडहरनुमा मकान से आप-पड़ोस के लोगों को बदबू आने पर जब पास जाकर देखा गया तो एक युवक की लाश सड़ी-गली अवस्था में पड़ी हुई थी जिसकी जानकारी पुलिस को दी गई और मृतक की शिनाख्त भुमेश्‍वर चौधरी के रूप में हुई।

इस संदर्भ में पूर्व में धारा 174 का प्रकरण दर्ज किया था लेकिन संदेह के आधार पर मृतक के चचेरे भाई फिर्यादी दिनेश रघुजी चौधरी (29 रा. काटी) ने 9 जून को रावणवाड़ी थाने में धारा 302 हत्या का जुर्म दर्ज कराया।

प्रकरण की जांच दौरान थाना प्रभारी सचिन बांगड़े ने हत्या से पर्दा उठाते हुए आरोपी अनिल राधेलाल भगत (45 रा. कार्टी) इसे गिरफ्तार कर लिया।

थाना प्रभारी सचिन वांगड़े ने जानकारी देते बताया कि, घटना के 6 जुलाई के रात घटित हुई। मृतक भुमेश्‍वर चौधरी और आरोपी अनिल भगत के बीच पुराने चाय के व्यवयास के विवाद को लेकर झगड़ा हो गया था जिसपर भुमेश्‍वर ने अनिल को गालीगलौच कर दी।

गालीगलौच करने से आवेशित होकर अनिल ने लोहे की रॉड से भुमेश्‍वर के सिर पर जोरदार प्रहार कर दिया जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई और आरोपी वहां से फरार हो गया था।

2 दिन तक मृतक की लाश घटनास्थल पर ही पड़ी रही और सड़-गल जाने से उसमें से बदबू आने लगी जिसके बाद आस-पड़ोस के लोगों ने पुलिस को सूचना दी और हत्या के मामले से पर्दा हटा।

उक्त कार्रवाई जिला पुलिस अधीक्षक मंगेश शिंदे, अप्पर पुलिस अधीक्षक अतुल कुलकर्णी, उपविभागीय पुलिस अधिकारी जगदीश पांडे के मार्गदर्शन में जांच पथक टीम के पोनि सचिन वांगड़े, हे.का. जगदीश मेश्राम, कॉ. राजू वरखेड़े, पो.ना. संजय चव्हान, ईश्‍वर ढेकवार, शेखर पटले, पोसि राहुल बोम्बार्डे आदि द्वारा की गई।

रवि आर्य