Published On : Thu, Aug 22nd, 2019

गोंदिया में मॉल कल्चर की दस्तक

नगर परिषद की आय बढ़ेगी, होगा आर्थिक मुनाफा

गोंदिया। देश के उभरते छोटे शहरों में शॉपिंग मॉल संस्कृति तेजी से विकसित हो रही है इसी के साथ खरीददारी का पैर्टन भी बदला है और आमदनी बढ़ने से उसके उपभोग का स्वरूप भी..

इतना ही नहीं घर से बाहर खाने की प्रवृत्ति में भी इजाफा हुआ है, इन सब के चलते अब गोंदिया जैसे शहर में भी शॉपिंग मॉल याने एक छत के नीचे उपभोक्ता को जीवनपयोगी सारी वस्तुएं शीघ्र गोंदिया नगर परिषद उपलब्ध कराने जा रही है।

चांदनी चौक स्थित प्रकाश एजेंसी से लेकर लोहा लाइन के दक्षिणी शोर से प्रीतम चौक और वहां से कपड़ा लाइन और मजदूर चौक से सब्जी मंडी तक की लगभग साढ़े 4 एकड़ नगर परिषद मालकीयत की जमीन पर ‘ द ग्रीन आर्केड ’ नाम से रिटेल हब (मॉल) का निर्माण कार्य 133 करोड़ रूपये की लागत से दिसंबर 2019 से शुरू होने जा रहा है, जिसके लिए 50 करोड़ की पहली किश्त चुनाव पूर्व आबंटित किए जाने का वादा भी मुख्यमंत्री कार्यालय की ओर से कर दिया गया है।

इस 4 मंजिला प्रोजेक्ट का नक्शा, डिजाइनफैक्ट इंटरनेशनल (रिंग रोड नागपुर) द्वारा तैयार किया गया है तथा इस नक्शे को मंजूरी भी मिल चुकी है। मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव कार्यालय की ओर कहा गया है कि, सरकार द्वारा नए रिटेल हब (मॉल) के निर्माण के लिए निधि समय पर उलपब्ध होगी लेकिन नई दुकानों के ऑक्शन से इतना फंड इक्कठा हो कि, आने वाले 3 वर्षों तक गोंदिया नगर परिषद को शासन से शहर के विकास कार्यों हेतु एक रूपया लेने की जरूरत ना पड़े, इसलिए दुकानों का ऑक्शन, ऑनलाइन पद्धति से पारदर्शिता के साथ होना चाहिए।

4 फ्लोर का होगा ग्रीन आर्केड मॉल

साढ़े 4 एकड़ नगर परिषद की जमीन के साथ मौजुदा नझुल विभाग के रोड-रास्तों की जमीन भी इस मार्केट हेतु उपयोग में लायी जाएगी। बहुमंजिला इमारत में 4 फ्लोर होंगे तथा भीतर फोर व्हीलर पार्किंग के लिए एक बेसमेंट तथा टू व्हीलर पार्किंग के लिए एक बेसमेंट भी रखा गया है।

ग्राऊंड फ्लोर और आधा फर्स्ट फ्लोर यह एयर कुल्ड रहेगा और यह स्माल स्केल अर्थात छोटे दुकानदारों के लिए रिजर्व होगा तथा 510 दुकानों की साइज 10 बॉय 10 की रहेगी, बाकि एयर कंडीशनर मॉल रहेगा, जिसमें फर्स्ट और सैंकेड फ्लोर पर दुकानों की साइज शोरूम हेतु 20 बॉय 20, 20 बॉय 30 व 20 बॉय 40 की रहेगी इनमें कपड़ा, इलेक्ट्रानिक व इलेक्ट्रिकल, फर्निचर, हार्ड वेयर, कीचन वेयर व ब्रांडेड कम्पनियों के शोरूम खुलेंगे।

थर्ड फ्लोर गेमिंग जोन तथा फुड प्लाजा हेतु रखा गया है। फोर्थ फ्लोर पर मल्टीप्लेक्स थिएटर होगा साथ ही ओपन टेरिस रेस्टारेंट की सुविधा भी दी जाएगी।

3 चरणों में बनेगा मॉल, मौजुदा दुकानें शिफ्ट होंगी

इस प्रोजेक्ट से जुड़े अधिकारियों ने जानकारी देते बताया, दि ग्रीन आर्केड रिटेल हब 3 चरणों में बनेगा। पहले चरण का शुभारंभ चांदनी चौक से लोहा लाइन गली (पुराना गंज) इलाके के बीच किया जाएगा। जिनकी दुकानें अभी मॉल निर्माण हेतु तोड़ी जाएगी उन दुकानदारों का व्यापार प्रभावित न हो तद्हेतु न.प. द्वारा पर्यायी व्यवस्था के तौर पर सुभाष ग्राउंड (स्टेट बैंक निकट) , इंदिरा गांधी स्टेडियम, पुराना फायर स्टेशन परिसर व मछली बाजार के पार्किंग जोन की जमीन पर टीन की दुकानें बनेगी। 6 माह की अवधी तक इन दुकानदारों को इन कच्ची दुकानों में ही व्यापार करना होगा, जैसे ही नए मार्केट के ग्राऊंड फ्लोर का उतना हिस्सा बनकर तैयार हो जाएगा वापस उन दुकानदारों को वहां शिफ्ट कर दिया जाएगा। इसी क्रम में फिर दुसरे चरण और तीसरे चरण के दुकानदारों को उसी टीन शेड की दुकानों में आना होगा।

महत्व की बात यह है कि, प्रस्तावित मॉल की जमीन पर 3 मंदिर स्थापित है लेकिन यह तीनों मंदिर उसी स्थान पर बने रहेंगे तथा मॉल का डिजाइन कुछ एैसा तैयार किया गया है कि,इन मंदिरों का स्वरूप और भी भव्य हो जाएगा।

विशेष उल्लेखनीय है कि, मौजुदा सब्जी मंडी 3 माह के भीतर एपीएमसी बाजार में स्थानातंरित की जा रही है जहां की दुकानों का निर्माण कार्य अपने अंतिम चरण में है।

नगर परिषद के बाजार कर विभाग के मौजुदा रिकार्ड मुताबिक किसी व्यक्ति के नाम 1 दुकान , तो किसी के नाम 2 दुकानें चढ़ी हुई है, इस तरह जो 510 व्यापारी अभी वहां पर है , उन सबको दुकानें मिलेगी लेकिन उन्हें कुछ सिक्युरिटी डिपाजिट लेकर दुकानें आंबटित की जाएगी। सिक्युरिटी डिपॉजिट कितना लेना है, यह ऑक्शन के वक्त निधार्र्रित किया जाएगा, इससे लगभग 500 करोड़ रूपये जुटाए जायेंगे साथ ही जो इस वक्त कच्ची दुकानों का किराया है, उस किराये में भी बढ़ोत्तरी होगी। सूत्रों की मानें तो 100 स्के. फिट की दुकान का किराया 1000 रूपये से 1200 रू. प्रतिमाह होगा।

नगर परिषद की तिजोरी में जमा होंगे 1038 करोड़ रूपये

शेष दुकानों का ऑक्शन (निलामी) ऑनलाइन पद्धति से होगी, महाराष्ट्र शासन के नगर विकास मंत्रालय द्वारा लक्ष्य यह निर्धारित किया गया है कि, नई दुकानों की निलामी से कम से कम गोंदिया नगर परिषद की तिजोरी में 538 करोड़ रूपये का फंड लाया जा सके। इस तरह मौजुदा दुकानदारों से सिक्युरिटी डिपाजिट लेकर तथा नए दुकानों के ऑक्शन से मिलने वाली रकम इस तरह कुल 1038 करोड़ रूपये फंड इक्कठा हो, ताकि आने वाले 3 वर्षों तक गोंदिया नगर परिषद को शासन से शहर के विभिन्न विकास कार्यों हेतु एक रूपया लेने की जरूरत ना पड़े, इस पर मुख्यमंत्री कार्यालय द्वारा विशेष ध्यान केंद्रित किया जा रहा है, कि दुकानों के ऑक्शन में पारदर्शिता बनी रहे और इसमें किसी भी प्रकार का कोई लाभ पार्षद या जनप्रतिनिधि ना उठा सके।

रवि आर्य