Published On : Mon, Jul 19th, 2021
nagpurhindinews | By Nagpur Today Nagpur News

गोंदिया: दूजी संग ब्याह रचाने के लिए पहली बीबी का कत्ल

तथाकथित शोहर 2 साथियों सहित गिरफ्तार

गोंदिया: एक माह पूर्व जगंल में धारदार शस्त्र से की गई युवती की हत्या के मामले की गुत्थी पुलिस ने सुलझाते हुए इस मामले में मृतका के तथाकथित शोहर सहित 3 आरोपियों को गिरफ्तार कर सलाखों के पीछे पहुंचा दिया है।

दूजी संग ब्याह रचाने के लिए तथाकथित शोहर ने अपने 2 साथियों के साथ मिलकर तथाकथित पहली पत्नी को रास्ते से हटाने का षड़यंत्र रचा और उसे सूनसान जंगल में ले जाकर उसे मौत के घाट उतार दिया।

गौरतलब है कि, देवरी तहसील के चिचगड़ थाना अंतर्गत आने वाले ढासगड़ (पिपरखारी) के जंगल परिसर में 23 जून को 20 वर्षीय अज्ञात युवती की लाश पायी गई थी। मृतका के गले पर धारदार शस्त्र से जख्म के निशान थे लिहाजा चिचगढ़ पुलिस ने अ.क्र. 70/2021 की धारा 302 हत्या का जुर्म किया था।
मामले की गंभीरता को देखते हुए जिला पुलिस अधीक्षक विश्‍व पानसरे ने युवती की शिनाख्त और हत्या की गुत्थी सुलझाने के निर्देश जारी करते हुए जांच का जिम्मा उपविभागीय पुलिस अधिकारी जालींदर नालकुल को सौंपा।

मृतका की शिनाख्त हेतु शव की फोटो सोशल मीडिया पर वायरल की गई साथ ही 4 अलग-अलग दस्ते तैयार करते हुए चिचगढ थाना क्षेत्र सहित आस-पास के थानों और सीमा से सटे छत्तीसगढ़ और मध्यप्रदेश राज्य के निकटत्म पुलिस थानों में भी गुमशुदा महिलाओं के संदंर्भ में पूछताछ शुरू की गई। इस दौरान 18 जुलाई को विश्‍वसनीय सूत्रों एंव खुफिया तंत्र की मदद से उक्त महिला की शिनाख्त और अज्ञात हत्यारों के संदर्भ में पुलिस के हाथ पुख्ता जानकारी लगी जिसके आधार पर पुलिस टीम ने भंडारा, बुटीबोरी, दुधा, सायकी में तलाशी शुरू की और आखिरकार आरोपी समीर शेख (26 रा. बावलानगर बुटीबोरी जि. नागपुर), आसीफ पठान (35 रा. बाबा मस्तान शा वार्ड भंडारा) तथा प्रफुल शिवणकर (25 रा. दुधा जि. नागपुर) को उनके घर से धरदबोचा गया।
मुख्य आरोपी समीर से कड़ाई से पूछताछ में उसने बताया कि, मृतका के साथ गत 2 वर्षों से उसके प्रेम संबंध थे और उसे पत्नी के रूप में स्वीकार करते हुए जुलाई 2020 से वे दोनों बुटीबोरी में किराए का कमरा लेकर एक साथ रह रहे थे लेकिन फरवरी 2021 में आरोपी समीर के माता-पिता ने दुसरी लड़की से उसका रिश्ता जोड़ दिया और सगाई रस्म भी अदा की गई। इसी बीच समीर के परिजनों को मृतक युवती के साथ प्रेमसंबंध होने और लड़की के अपंग होने की बात पता चली साथ ही मृतका को भी आरोपी का रिश्ता जुड़ने की बात पता चली जिसके बाद वह विवाह के लिए उसपर दबाव बना रही थी, जिसपर आरोपी ने युवती से पीछा छुड़ाने के लिए अपने रिश्तेदार आसीफ तथा मित्र प्रफुल के साथ मिलकर युवती के हत्या की ही साजीश रच दी।

षड़यंत्र के तहत 22 जून को युवती को मोटर साइकिल से चिचगड़ थाना क्षेत्र के ढासगड़ जंगल परिसर लेकर पहुंचे जहां तीनों आरोपियों ने मिलकर मंदिर की ओर जाने वाले मार्ग पर लोहे के धारदार शस्त्र से उसकी निर्मम हत्या कर दी तथा शव झाड़ियों में फेंक दी।

बहरहाल तीनों आरोपियों को आज 19 जुलाई को न्यायलय में पेश किया गया जहां से उन्हें 23 जुलाई तक पुलिस रिमांड पर भेजा गया है। आगे की जांच उपविभागीय पुलिस अधिकारी देवरी कर रहे है।

उक्त कार्रवाई जिला पुलिस अधीक्षक विश्‍व पानसरे, अपर पुलिस अधीक्षक अशोक बनकर, उपविभागीय पुलिस अधिकारी जालीदर नालकुल, एलसीबी के पुलिस निरीक्षक बबन अव्हाड़, साइबर सेल निरीक्षक वैशाली पाटिल, चिचगड़ थाना प्रभारी अतुल तवाड़े, उपनिरीक्षक अभयसिंह शिंदे, पोउपनि पाटिल, वानखेड़े, सहा. उपनि. गोपाल कापगते, चंद्रकांत करपे, पो.ह. राजेंद्र मिश्रा, पो.ना. दिक्षीतकुमार दमाहे, धनजंय शेंडे, प्रभाकर पालांदूरकर, संजय मारवाडे, विनोद बरैया, मोहन शेंडे, महेश मेहर, चितरंजन कोड़ापे, तुलसीदास लुटे, सोमेंद्र तुरकर, रियाज शेख, इंद्रजीत बिसेन, अजय रहांगडाले, संतोष केदार, विजय मानकर, चालक पोसि पंकज खरवडे आदि ने की।

– रवि आर्य