Published On : Tue, Jun 15th, 2021

गोंदिया: सर्पदंश से मां-बेटे की मौत

जमीन पर बिछोना लगाकर सोए थे , जहरीले नाग ने डंसा

गोंदिया। बारिश के मौसम में बरसात का पानी सांपों के बिलों में भर जाता है जिससे ये जहरीले जीव अपनी जान बचाने के लिए सूखे स्थानों की तरफ भागते है और अकसर ये जहरीले सांप विशेषतः घरों के अंदर घुस जाते है। एैसे में ग्रामीण इलाकों में सर्पदंश की घटनाओं में भी वृद्धि हो जाती है।

हृदयविदारक घटना में जमीन पर बिछोना लगाकर गहरी नींद में सो रहे मां-बेटे की सांप के काटने से मृत्यु हो गई, एक ही दिन हुई मां-बेटे की मृत्यु से गांव में मातम की लहर छा गयी है।

सालेकसा तहसील के ग्राम मुंडीपार निवासी फिर्यादी पन्नालाल तेजु मोहरे का परिवार 13 जून के रात खाना खाने के बाद सो रहा था। 11 वर्षीय बेटा दीपक और उसकी मां सत्वनाबाई (38) यह दोनों जमीन पर बिस्तर लगाकर सो रहे थे, इसी बीच आधी रात को गहरी नींद में सोए दीपक के कनपटी पर सांप ने कांट लिया और बाजू में सोयी मां सत्वनाबाई के हाथ की कलाई पर भी सांप ने डंस लिया।

सांप के काटने का अहसास होते ही सत्वनाबाई की नींद खुली तो देखा तो कमरे में सांप था, इस बीच अन्य सदस्यों की भी नींद खुल गई और उन्होंने लाठी-डंडों से सांप को मार डाला।

सर्पदंश के शिकार मां-बेटे की तबीयत बिगड़ने पर दोनों को उपचार हेतु सालेकसा के ग्रामीण अस्पताल में ले जाया गया, जहां से प्राथमिक उपचार पश्‍चात उन्हें जिला केटीएस अस्पताल गोंदिया हेतु रेफर किया गया लेकिन बीच रास्ते में ही मासूम बालक ने दम तोड़ दिया। सत्वनाबाई को अस्पताल में भर्ती कराया गया लेकिन उसकी भी उपचार दौरान मौत हो गई। एक ही दिन मां-बेटे की मृत्यु की घटना से ग्राम मुंडीपार में शोक का वातावरण निर्माण हो गया है।

बहरहाल इस संदर्भ में फिर्यादी पन्नालाल मोहारे (60) की शिकायत पर सालेकसा पुलिस ने मर्ग क्र. 17/21 के भादंवि 174 के तहत मामला पंजीबद्ध किया है। आगे की जांच पो.ह. लिल्हारे कर रहे है।

रवि आर्य