Published On : Thu, Jul 1st, 2021

गोंदिया: हाथीपांव रोग उन्मूलन अभियान में नागरिक अपनी भागीदारी दर्ज करें – कलेक्टर खवले

एल्बेंडाजोल गोलियों का प्रत्यक्ष सेवन कर कलेक्टर के हाथों अभियान की शुरुआत

गोंदिया। जिला प्रशासन ने हाथी पांव रोग को फैलने से रोकने के लिए एक जुलाई से जिले में हाथीपांव उन्मूलन अभियान शुरू किया है. स्वास्थ्य विभाग द्वारा कोरोना रोकथाम दिशा-निर्देशों के कड़ाई से अनुपालन में गोलियों का वितरण किया जाएगा। इस संबंध में 1 जुलाई को जिला कलेक्टर कार्यालय के जिला योजना समिति हॉल में जिला कलेक्टर राजेश खवले ने प्रत्यक्ष डी.ई.सी दिया और एल्बेंडाजोल की गोलियों का सेवन कर एलीफेंटाइसिस उन्मूलन अभियान शुरू किया।

इस अवसर पर शासकीय मेडिकल कॉलेज के डीन डॉ. नरेश तिरपुड़े, डॉ. सुभाष चौधरी, डिप्टी कलेक्टर, डॉ. अमरीश मोहबे, जिला सर्जन, डॉ. नितिन कापसे, जिला स्वास्थ्य अधिकारी और डॉ. वेद प्रकाश चौरागड़े, जिला मलेरिया अधिकारी उपस्थित थे।

1 से 15 जुलाई तक चलेगा सामुदायिक औषधोपचार कार्यक्रम
जिला कलेक्टर श्री खवले ने कहा कि सामुदायिक हाथी रोग उपचार अभियान के तहत स्वास्थ्य विभाग द्वारा वितरित किये जा रहे डी.ई.सी आज एक जुलाई से शुरू हो गये हैं और एल्बेंडाजोल की गोलियों का कोई साइड इफेक्ट नहीं होता है। इसलिए, जिले के नागरिकों ने बिना किसी झिझक के हाथी रोग के उन्मूलन के लिए अभियान को प्रतिसाद देना चाहिए उन्होंने एल्बेंडाजोल की गोलियां लेने का भी आह्वान किया।

जिला स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. नितिन कापसे ने कहा कि मधुमेह, उच्च रक्तचाप और अन्य बीमारियों जैसी पुरानी बीमारियों से पीड़ित लोग बिना किसी संदेह के हाथी पांव को खत्म करने के लिए इन गोलियों का सेवन कर सकते हैं।

जिला मलेरिया अधिकारी डॉ. वेद प्रकाश चौरागड़े ने जानकारी देते हुए बताया कि जिले में 1 जुलाई से 15 जुलाई 2021 तक सामुदायिक चिकित्सा अभियान चलाया जा रहा है. इस दौरान स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी आपके घर आएंगे तथा स्वास्थ्य कर्मियों के सामने एल्बेंडाजोल की गोलियां लेनी चाहिए। इन गोलियों का सेवन खाली पेट नहीं करना चाहिए। इन गोलियों का सेवन भोजन या नाश्ते के बाद ही करना चाहिए। भले ही एलिफेंटियासिस एक भयानक बीमारी है, लेकिन हम इससे बच सकते हैं ऐसा उन्होंने कहा।

कार्यक्रम में मुख्य रूप से जिला योजना अधिकारी श्रीमती कावेरी नाखले, श्रीमती प्रणोती बुलकुंडे, जिला विज्ञान सूचना अधिकारी पंकज गजभिये, अधीक्षक प्रवीण जामधाड़े, आपदा प्रबंधन अधिकारी राजन चौबे, तहसील स्वास्थ्य अधिकारी डॉ शीतल मोहने, डॉ अमित खोडनकर, डॉ विजय राउत, डॉ. बी.जे राउत, अजय चौधरी, अनिल वालगये , पराते, दोनोड़े , जिला कलेक्टर के निजी सहायक आकाश चव्हाण और किशोर राठौड़ आदि उपस्थित थे‌।

रवि आर्य