Published On : Wed, Mar 31st, 2021

प्रत्येक पात्र व्यक्ति टीकाकरण करवाएं

‘कोविड संवाद’ में डॉ. आशीष दिसावल और डॉ. शहनाज़ चिमठानवाला ने किया आवाहन

नागपुर: कोरोना का संकट दिन प्रतिदिन बढ़ता ही जा रहा है. इस बारे मं भय, अफवाह और गलतफहमी भी बढ़ रही है. इन सभी विपरीत परिस्तिथियों में हाल ही में प्रारंभ की गई कोविड टीकाकरण अभियान एक सकारात्मक व उर्जा दिलानेवाली बात है. वैक्सीन के बारे में भी अनेक नकारात्मक बातें फैलाई जा रही है, जो गलत है. वैक्सीन पूरी तरह से सुरक्षित है और टीकाकरण के लिए पात्र सभी नागरिकों को तत्काल टीकाकरण कराना चाहिए, यह आवाहन शहर के प्रसिद्ध ईएनटी चिकित्सक डॉ. आशीष दिसावल और प्रसिद्ध पॅथॉलॉजिस्ट डॉ. शहनाज़ चिमठानवाला ने किया.

महापौर दयाशंकर तिवारी की संकल्पना से और नागपुर महानगरपालिका और इंडियन मेडिकल असोशिएन की संयुक्त पहल से आयोजित ‘कोविड संवाद’ ‘फेसबुक लाईव’ कार्यक्रम में मंगलवार को डॉ.आशीष दिसावल और डॉ.शहनाज़ चिमठानवाला ने ‘होम क़्वारन्टाइन और टीकाकरण’ विषय पर मार्गदर्शन किया और नागरिकों के प्रश्नों का उत्तर दिया.

कारोना संक्रमण की चेन को तोड़ने के लिए हलके लक्षण वाले मरीज़ों को ‘होम आयसोलेशन’ में रहने और किसी के साथ संपर्क में आने पर खुद को ‘क्वारंटाईन’ करने के नियम का पालन करना अत्यंत आवश्यक है. यह निवारक उपाय नागरिकों को पूर्ण ज़िम्मेदारी के साथ अपनाना अत्यंत आवश्यक है. सुरक्षा के लिए कदम उठाना और निवारक उपायों का सख्ती से पालन करना कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में सबसे बड़ा हथियार है. इसलिए, हमें पूरी ज़िम्मेदारी से काम करना चाहिए. इस अलावा हमारे पास आज ‘ ‘कोवैक्सिन’ और ‘कोविशिल्ड’ जैसे दो असरदार वैक्सीन उपलब्ध हैं. सरकार की नियमानुसार पात्र व्यक्तियों को टीकाकरण कराने के लिए आगे आना चाहिए.

टीकाकरण के चलते किसी को कोरोना नही होता है, यह गलतफहमी है. मान लो यदि ऐसा होता भी है तो ऐसे मामलों में मरीज़ों को आम तौर पर हलके लक्षण ही होते हैं. हालाँकि टीकाकरण से यह गारंटी तो नहीं दी जा सकती की इससे आप सौ प्रतिशत कोरोना से बचाव करने में सक्षम हो जाएंगे, लेकिन टीकाकरण कराने से कोरोना के खिलाफ लड़ने के लिए आवश्यक प्रतिरक्षा प्रणाली का निर्माण हमारे शरीर में हो जाता है. इसके अलावा नियमों का पालन करना भी अत्यंत आवश्यक है. टीकाकरण से पहले और टीकाकरण के बाद में भी सभी को ‘एसएमएस’ यानि सॅनिटायजिंग, मास्क पहनना और सामाजिक दूरी बनाए रखना, यह त्रीसूत्र को मानना अनिवार्य है, डॉ.आशीष दिसावल और डॉ.शहनाज़ चिमठानवाला ने कहा.