Published On : Mon, Feb 10th, 2020

एफएसएसएआई के मानक पर पायी गई शगुन महिला गट में 34 खामियां

नागपुर- शगुन महिला गठ के ख़िलाफ़ (FDA ) मे आरटीई एक्शन कमेटी ने शिकायत दर्ज की है. दिनांक 7 फ़रवरी को हुडकेश्वर स्थित मारोतराव मुड़े स्कूल में फ़ूड प्वाइज़निंग की शिकायत खाद्य एवं आपूर्ति विभाग को दी गई थी. जिसमें तत्काल प्रभाव से शेड्यूल चार के तहत निरीक्षण किया गया. जिसमें अनेक खामियां पाई गई, जैसा कि पालकों ने बताया था भोजन में मल मूत्र चूहे के तथा ईली आदि का समावेश था.नियमावली अनुसार स्वास्थ्य के मापदण्ड की परिपूर्ति शगुन के परिसर में नहीं पाई गई है. जिसमें काम करने वाले कर्मचारियों का स्वास्थ्य का उल्लेख होता.

यहांपर कचरे के डब्बे है जिस पर अलग अलग कचरा डालने का उल्लेख होना चाहिए. हाइजीन नियंत्रण करने के लिए संबंधित प्रमाण पत्र, खाद्य सामग्री की रख रखाव की व्यवस्था. नियमानुसार ज़मीन से एक फुट की ऊँचाई पर होनी चाहिए. स्कुल में छिपकली, जाले आधी भी भोजन बनने वाली जगह पर छत पर दिखाई दिए और पानी की हाली की कोई रिपोर्ट भी नहीं है. भोजन बनाने वाले कर्मचारियों का स्वास्थ् प्रमाण पत्र नहीं और साथ ही महानगर पालिका के स्वास्थ्य विभाग का एनओसी लेटर भी लगाने का नियम में उल्लेख है लेकिन शगुन द्वारा इसकी पुष्टि नहीं की गई. शरीफ ने बताया की एफएसएसएआई (fssai ) के मानक में करीब 34 खामियां पायी गई है.

शनिवार को अवकाश होने के कारण निरीक्षण की रिपोर्ट सबमिट नहीं की गई और विषबाधा हुए खाने का सैंपल भी नहीं मिल पाया. मंगलवार तक नमूने का रिजल्ट आ जाएगा और अनियमिताओं के लिए नियमानुसार विभाग द्वारा कार्रवाई की जाएगी .शरीफ ने बताया कि शेडूल चार के तहत अनियमितताएं आना मिड डे मिल के अधीक्षक गौतम गेडाम पर अपने कार्य का निर्वाह नहीं करने वाली बात नजर आती है. क्योंकी प्रत्येक संस्थान जो स्कूलों में मिड डे मील की सेवा दे रही है. उस संस्थान की निरीक्षण करने की ज़िम्मेदारी अधीक्षक की होती है और इसके लिए उतना ही ज़िम्मेदार शिक्षण विभाग भी रहेगा.