Published On : Wed, Sep 24th, 2014

चिमूर : चार हजार किसान यूरिया से वंचित, सरकार कर रही अनदेखी

Advertisement


जिला कृषि अधिकारी पर कार्रवाई करने की मांग

चिमूर (चंद्रपुर) । जिला परिषद के कृषि विभाग द्वारा जिले के किसानों को बीज, खाद तथा खेत में लगनी वाली चीजें समय पर मिलने के लिए कड़े नियम बनाने के बावजूद भी चिमूर तालुका के चार हजार से अधिक किसान यूरिया खाद से वंचित है. इस वजह से किसानो में तीव्र असंतोष निर्माण होने से जिला कृषि अधिकारी पर कार्रवाई करने की मांग किसानो ने की है.

चिमूर के विभिन्न कार्यकारी सेवा सहकारी संस्था र.नं. 564 अंतर्गत व शंकरपुर के उपाआगार के कुल चार हजार से अधिक किसानो को चालू हंगाम में यूरिया खाद ना मिलने से धान व सोयाबीन फसल धोके में आ गई है. इस बारे में उक्त संस्था ने सचिव पी.एस. बंडे के साथ संपर्क करके पर मिली जानकारी के अनुसार सन 2014-15 में यूरिया खाद की एक भी रैक आपूर्ति संस्था को नहीं की गई. वही निजी कृषि केंद्रो को जरुरत से ज्यादा खाद आपूर्ति की गई है. इस वजह से निजी कृषि केंद्र संचालको से किसानो से ज्यादा रकम वसूल करके आर्थिक शोषण शुरू किया है. दूसरी ओर सेवा सहकारी संस्था से मात्र शासकीय कीमत के अनुसार खाद आपूर्ति की जाती है, इस वजह से तालुका के शंकरपुर समेत खङसंगी, मासल, नेरी व भिसी के किसान इस संस्था पर निर्भर रहते है. कृषि केंद्र संचालक के तरफ से कृषि अधिकारी व आपूर्ति करने वाली कंपनी में अर्थपूर्ण व्यवहार होकर किसानो को परेशानी में डालने का आरोप हो रहा है.

Advertisement

चिमूर तालुका में धान फसल प्रमुखता से ली जाती है. इस फसल को यूरिया खाद की आवश्यकता होती है. इस वजह से किसान बड़े पैमाने पर यूरिया खाद खरेदी करते है। धोड़े से फायदे के लिए प्रशासन व गैरसरकारी वितरक की शिकायत मुख्यमंत्री, कृषिमंत्री, केंद्रिय कृषिमंत्री, कृषिसचिव को भेजी जाएगी.

File pic

File pic

Advertisement

Advertisement
Advertisement
 

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement