Published On : Sat, Apr 1st, 2017

छूट पर उमड़े खरीदार कंपनियों का बेड़ा पार

Allahabad: A view of vehicle showroom after offering discounts of up to Rs 12,500 on BS-III models to liquidate stocks,a day after the Supreme court banned sale and registration of such vehicles from April 1,in Allahabad on Thursday. PTI Photo(PTI3_30_2017_000237B)

नागपुर: दोपहिया कंपनियों ने वाहनों पर छूट का ऐलान क्या किया, देश भर में डीलरों के शोरूम पर खरीदारों का सैलाब उमड़ पड़ा। अदालती सख्ती के बाद भारत मानक (बीएस) – 3 वाले वाहनों का स्टॉक खपाने के लिए कंपनियों ने 31 मार्च तक भारी छूट का ऐलान किया था। खरीदारों ने यह मौका बिल्कुल नहीं गंवाया और कल दोपहर तक सभी डीलरों का स्टॉक खत्म हो गया । कई डीलरों ने तो दोपहर से पहले ही शटर गिरा लिए थे क्योंकि वाहन खत्म हो चुके थे और खरीदार हटने का नाम नहीं ले रहे थे।

उच्चतम न्यायालय के फैसले के बाद संकट में फंसी हीरो मोटोकॉर्प, होंडा मोटरसाइकल ऐंड स्कूटर और बजाज ऑटो जैसी कंपनियों ने स्टॉक खपाने की हड़बड़ी में वाहनों पर 20,000 रुपये तक की छूट दे डाली थी। लेकिन उन्हें अंदाजा भी नहीं रहा होगा कि इतनी आसानी से उनके सभी वाहन बिक जाएंगे। उन्होंने थोड़ा नुकसान जरूर झेला, लेकिन दो दिनों में ही हरेक कंपनी के हजारों दोपहिया बिक गए। कई कंपनियां भारी छूट के साथ बीमा भी मुफ्त में कर रही थीं। डीलरों ने जो छूट दी है, उसकी भरपाई कंपनियां बाद में कर देंगी।

यामाहा इंडिया के अनुसार बुधवार दोपहर तक कंपनी के पास बीएस-3 मानक वाले 20,000 वाहन थे, लेकिन दो दिनों में ही हम करीब 99 फीसदी वाहन बेचने में सफल रहे। उन्होंने कहा कि 10,000 रुपये की छूट से भी स्टॉक खपाने में मदद मिली।

छूट से उत्साहित खरीदार देश भर में कंपनी के डीलरों के यहां उमड़ पड़े। लेकिन कई लोग सवालों में उलझे रहे। उन्हें यह हिचक थी कि इन वाहनों का पंजीकरण 1 अप्रैल के बाद हो भी पाएगा या नहीं। हालांकि उच्चतम न्यायालय साफ कर चुका है कि 31 मार्च तक की खरीद के सबूत होने पर ऐसे वाहनों का पंजीकरण 1 अप्रैल और उसके बाद भी हो जाएगा।

होंडा के एक डीलर ने कहा, ‘हमें फुर्सत तो गुरुवार से ही नहीं मिली। लेकिन कल खरीदार बहुत बड़ी तादाद में आए और कुछ ही घंटों में बीएस-3 मानकों वाले 100 वाहन निपट गए।’माना जा रहा है कि महाराष्ट्र में कुछ डीलरों के पास थोड़ा-बहुत स्टॉक बचने की आशंका है। कुछ जगहों पर डीलरों को उन ग्राहकों के गुस्से का सामना करना पड़ा, जिन्हें वाहन नहीं मिले थे। कुछ लोगों की यह शिकायत भी रही कि डीलरों ने अपने कर्मचारियों के नाम से वाहन बुक कर लिए। फेडरेशन ऑफ ऑटोमोबाइल डीलर्स एसोसिएशन ने बताया कि आज दोपहर तक देश भर में 90 फीसदी से ज्यादा बीएस-3 वाहन बिक चुके थे।