Published On : Wed, Jan 31st, 2018

फ़्लैटधारियों को बिना इजाज़त बिजली का कनेक्शन


नागपुर: खामला स्थित फ़रियाज होटल प्राईवेट लिमिटेड कंपनी द्वारा बनाये गए रिहायशी ईमारत से जुडी नई कारगुज़ारी सामने आयी है। आरोप है की ईमारत के मालिक ने बिना एमएसईडीसीएल की इजाज़त के फ्लैट धारियों को बिजली के कनेक्शन दिए। आरटीआई के माध्यम से सामने आयी जानकारी के मुताबिक बिजली वितरण करने वाली कंपनी एमएसईडीसीएल ने फ़रियाज होटल प्राईवेट लिमिटेड नाम से 21 -12 -2012 को सिर्फ एक कनेक्शन दिया है। यानि ईमारत की मिल्कियत रखने वाली कंपनी ने जो बिजली कनेक्शन फ्लैट धारकों को दिए है वह गैरकानूनी है। नियम के अनुसार किसी भी अपार्टमेंट में फ्लैट धारियों के नाम से कनेक्शन दिया दिया जाता है। बावजूद इसके कंपनी ने अपने नाम से लिए गए मीटर से ही कनेक्शन बांट दिए। जनवरी में बिल्डिंग को 3 लाख 21 हज़ार 580 रूपए का बिल फ़रियाज होटल प्राईवेट लिमिटेड को आया है जिससे साफ़ होता है की यह सारा घालमेल कंपनी द्वारा किया गया है।

दिलचस्प बात यह भी है की जिस जगह में खसरा नंबर( 82 से 89) में यह रिहायशी ईमारत बनी है उसे नागपुर सुधार प्रन्यास गैरकानूनी निर्माण मनाता है। एनआइटी द्वारा फ़रियाज होटल प्राईवेट लिमिटेड की रिहायशी ईमारत के निर्माण की इजाज़त दी ही नहीं गई है और न ही बिजली मीटर,पानी मीटर लेने के लिए एनओसी जारी की गई है। कंपनी को फ़्लैट के वितरण का भी अधिकार नहीं है बावजूद इसके अपार्टमेंट में फ्लैट की बिक्री लगातार जारी है।

जिस जगह पर कम्पनी ने रिहायशी अपार्टमेंट का निर्माण किया है वह विवादित है यह जगह एनआयटी की है। एनआइटी द्वारा लगातार जारी किये गए नोटिस इस बात की तस्दीक करते है की यह ईमारत गैरकानूनी है। आरटीआई कार्यकर्त्ता टी एच नायडू का कहना है नियमों को ताक पर रखकर ईमारत का निर्माण किया गया। नियमों का उल्लंघन लगातार जारी है फ़रियाज होटल प्राईवेट लिमिटेड अपने नाम से एमएसईडीसीएल से वर्ष 2012 में जो कंस्ट्रक्शन मीटर लिया उसी से फ़्लैट मालिकों को बिजली की आपूर्ति की जा रही है।