Published On : Sat, Feb 14th, 2015

यवतमाल : स्वाईन फ्ल्यू से यवतमाल मे पहली मौत


कवठा निवासी शिल्पा की मौत

यवतमाल। यवतमाल जिले के पाटणबोरी के कवठा (वा:हा) निवासी शिल्पा रामकृष्ण भेदूरकर (33) की स्वाईन फ्ल्यू से आज तड़के मौत हो गई. वह नागपूर मेडीकल कॉलेज में भर्ती थी. नागपुर से घटना की जानकारी मिलते ही पाटनबोरी के स्वास्थ्य केंद्र के चिकित्सक डा. खात कवठा गाव में पहुंचे. वहा उन्होंने इस मामले की छानबीन की और वरिष्ठ अधिकारियों को इसकी रिपोर्ट सौंपी. इस घटना से जिले में स्वाईन फ्ल्यू नहीं होने का दावा करनेवाले अधिकारियों की पोल खुल गई है.

यवतमाल जिले की यह स्वाईन ल्यू से पहली मौत है. इस गाव में मृतका के घर बाहरगाव से ना  ही कोई आदमी आया था, ना ही वह किसी बाहरगाव गई थी. जिससे स्वाईन ल्यू इस महिला को कैसे हुआ यह गुत्थी सुलझ नही पा रहीं है, ऐसा भी डा.खात ने बताया है.

आठ-दस दिन पहले शिल्पा को बुखार आया था. जिसके बाद उसे यवतमाल के पी.डी.अग्रवाल के अस्पताल में भेजा गया था. उन्होने इस महिला को वर्षा के सेवाग्राम मेडीकल कॉलेज में रेफर किया. वहा डा. डेकरे ने इस मरिज पर उपचार किया. और वही इस महिला को स्वाईन  फ्ल्यू होने की बात पता चली. वैसा इस महिला के रिपार्ट पर भी उन्होने स्वाईन फ्लू होने की बात दर्ज की है. उसके बाद उसे नागपूर मेडीकल कॉलेज दो दिन पहले भेजा गया, जहा उसपर उपचार किया गया. मगर आज तडके उसकी मौत हो गई. नागपूर मेडीकल कॉलेज की ओर से इस महिला के गले में से  कुछ लिक्वीड उन्हे राज्य के एकमात्र जांच
प्रयोगशाला पुणे को भेजा गया है. ताकी इस महिला को यह बिमारी कैसे हुई इसका पता लगाया जाएगा, वैसे भी गत कई माह से यह महिला गाव से कही बाहरगाव नही गई थी. ना ही उसके घर बाहरगाव से कोई मेहमान आया था. जिससे बिमारी कैसे पहुंची यह पता नही चल पा रहा है. इसीलिए डाक्टर खात कवठा गाव में पहुंचे है.

पाटणबोरी प्राथमिक स्वास्थ केंद्र में इस प्रकार का कोई संदेहास्पद मरिज अबतक नही आया था. जिससे यह बिमारी होने की रत्तीभर भी शंका नही थी. मगर शिल्पा की मौत ने जिले के चिकित्सको के उस दावे की पोल खोल दी है. जिसमें यवतमाल जिले में स्वाईन फ्ल्यू का कोई मरिज नही होने का दावा किया गया था.

swine-flu