Published On : Wed, Feb 6th, 2019

विश्व में पहली दफा अखिल भारतीय सिंधी छेज नृत्य स्पर्धा

१० फरवरी को मानकापुर इंडोर स्टेडियम में आयोजित

नागपुर: मनपा में स्थाई समिति सभापति और नागपुर सुधार प्रन्यास के विश्वस्त विक्की कुकरेजा ने पत्र परिषद के माध्यम से जानकारी दी कि विश्व की सनातन और श्रेष्ठतम सिंधु सभ्यता और संस्कृति की ऎतिहसिक धरोहर से अपनी युवा पीढ़ी को अवगत कराने के लिए और सिंधी लोक कला की जीवंतता बनाए रखने के लिए पारंपरिक वेशभूषा में विश्व प्रसिद्ध सिंधी छेज़ नृत्य की स्पर्धा का विशाल आयोजन किया का रहा हैं।इसका आयोजन आगामी १० फरवरी को मानकापुर इंडोर स्टेडियम में सुबह १० बजे से शाम ६ बजे तक किया जाएगा।

Advertisement

सिंध प्रदेश का इतिहास गौरवशाली रहा हैं।’सिंधु घाटी की सभ्यता’ विश्व की सभ्यताओं में सबसे प्राचीन और उच्च कोटि की सभ्यता मानी गई है। ऎसी पावन सभ्यता के निवासियों को भारत की आजादी के बाद सिंध प्रदेश छोड़कर अलग अलग देशों में जाकर रहना पड़ा। जिससे उनकी सभ्यता,संस्कृति,भाषा और कला को गहरा आघात पहुंचा हैं। आज जरूरत हैं उनकी सभ्यता और संस्कृति के संवर्धन की।

छेज नृत्य सिंधी संस्कृति की प्रमुख लोककला हैं। आज के आधुनिक युग की दौड़ में पाश्चात्य सभ्यता के प्रभाव की वजह से यह कला विलुप्त होती जा रही हैं। इसी उद्देश्य को ध्यान में रखकर विश्व में पहली बार नागपुर शहर में अखिल भारतीय छेज नृत्य महोत्सव का आयोजन किया जा रहा है।महाराष्ट्र की सांस्कृतिक राजधानी के लिए यह अत्यंत गौरव की बात हैं कि विश्व की महानतम सिंधु सभ्यता और संस्कृति की उत्कृष्ठ लोककला छेज नृत्य की ऎतिहासिक प्रतियोगिता नागपुर में आयोजित की गई हैं। इस प्रतियोगिता में देशभर से करीबन दो दर्जन से अधिक समूह भाग लेने की हामी भरी है जो अपनी कला से आयोजन स्थल में समा बांध देंगी।

पुरुष वर्ग में प्रथम को ५१००० रुपए,द्वितीय दो समूह को २५- २५ हजार रुपए और तृतीय पुरस्कार ४ समूह को ११-११ हजार रुपए इसके अलावा महिला वर्ग में प्रथम पुरस्कार ५१००० रुपए,द्वितीय पुरस्कार २५००० रुपए और तृतीय पुरस्कार ११००० रुपए प्रदान किए जाएंगे। पुरस्कार वितरण समारोह में पालक मंत्री चंद्रशेखर बावनकुले विशेष रूप से उपस्थित रहेंगे।

स्पर्धा का मुख्य आकर्षण “मित्र रोबोट ” रहेगा – सिंधी यूथ विंग के प्रमुख डॉक्टर राकेश कृपलानी ने बताया कि प्रतियोगिता का मुख्य आकर्षण ” मित्र रोबोट ” रहेगा जो महाराष्ट्र में पहली बार जनता से और अतिथियों से संवाद करेंगे। इस रोबोट का उद्धघाटन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया था। यह अन्य कई प्रदेशों में प्रदर्शन कर चुका है। यह इक्कीसवीं सदी का अद्भुत आविष्कार माना जा रहा है। युवाओं में और बच्चो में इसका उत्साह दिखाई दे रहा है। आयोजन मंडल के किशोर लालवानी ने बताया कि इस आयोजन में विदर्भ सिंधी विकास परिषद यूथ विंग,सिंधु युवा शक्ति और भारतीय सिंधु सभा युवा मंच हैं। कार्यक्रम को सफल बनाने हेतु सर्वश्री घनश्याम कुकरेजा,गोपाल खेमानी,किशोर लालवानी,राजेश बटवानी,सतीश अनांदानी,संजय वासवानी,किशन असुदानी,सुरेन्द्र ढलवानी,अशोक केवालरामानी,जगदीश वंजानी,दिलीप बिखानी,राजकुमार कोडवानी आदि सक्रिय है।।

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

Advertisement
Advertisement
Advertisement

 

Advertisement
Advertisement
Advertisement