Published On : Tue, Oct 14th, 2014

गोंदिया : आज है क़तल की रात


गोंदिया।
कहते है कि कतल की रात ही वह आखरी रात होती है जिससे रातों ही रातों में अनेकों की किस्मत संवर जाती है, इसी कतल की रात का फायदा उठाने के लिए जिले के पुरे उम्मीदवारों ने कमर कस ली है.

चुनाव दिन के पहले वाली रात कतल की रात कहलायी जाती है. चुनाव घोषित होने के बाद हर उम्मीदवार इसी रात का बेसब्री से इंतजार करता रहता है, अपने सारे दांवपेच इसी रात में खोलने के लिए वह आतुर रहता है, इसी रात में अंधेरे का फायदा उठाते हुए दिग्गज उम्मीदवार मतदाताओं को लुभाने का भरकस प्रयास करता है. जो उसके विरोधी है उन्हें भी अपने खेमें में लाने के लिए वह इसी रात का उपयोग करता है. यहां तक कहा जाता है कि इसी रात में अनेक उम्मीदवार मतदाताओं को आकर्षित करने के लिए रूपये तथा शराब आदि मुहय्या कराते है. पैसे और शरब के लालच में आकर अनेक मतदाता अपना मत पैसों की तरफ झुका लेते है, जिसमें उम्मीदवारों के हार-जीत पर काफी असर पड़ता है. इस कतल वाली रात में उम्मीदवारों द्वारा पैसा और शराब बांटने में स्पर्धा होती. है इस वक्त उम्मीदवारों द्वारा बाटी जानेवाली शराब और पैसे पर चुनाव आयोग भी कड़ी नजर रखे हुए है, लेकिन अब देखना यह होगा की आज की कतल की रात में होनेवाले अवैध वोट खरीदी रोकने में चुनाव आयोग तथा स्थानीय पुलिस कितनी सफल होती है यह तो कतल के रात के बाद ही पता चलेगा.

File pic

File pic