Published On : Thu, Jun 21st, 2018

अधिवेशन में बिछायत का ठेका हथियाने के लिए रस्साकस्सी शुरू

नागपुर: नागपुर में प्रत्येक वर्ष शीतकालीन अधिवेशन हुआ करता है. जिसके लिए सिर्फ बिछायत का करोड़ों का ठेका जारी किया जाता था. लेकिन इस बार एक नए ठेकेदार की जोरदार ‘एंट्री’ से ठेका हथियाने का मामला रोचक हो गया है.

सूत्र बतलाते हैं कि राज्य विधिमंडल का शीतकालीन या ऐसे किसी भी आयोजन प्रत्येक वर्ष अनिवार्य है. इन आयोजनों पर होने वाले खर्चों का कोई ओर-छोड़ नहीं होने से इस मामले में अनाप-शनाप खर्च करोडो में किया जरूर जाता है लेकिन इसका अंकेक्षण नहीं किया जाता. इसलिए जिस विभाग और सम्बंधित अधिकारी पिछले बहुतेक वर्षों से मलाई खा रहे हैं. जिससे अब तक स्थानीय ठेकेदार अग्रवाल को एकतरफा ठेका हमेशा मिलता रहा है.

लेकिन इस बार मानसून और शीतकालीन अधिवेशन नागपुर में होने के कारण और उक्त कामों का ठेके में काफी बदलाव किए जाने की सूचना मिली है. इस बार श्याम डेकोरेशन नामक एक और बिछायत वाले ने ठेका हथियाने के लिए टेंडर प्रक्रिया में भाग लिया. श्याम डेकोरेशन के कूदने से प्रस्थापित ठेकेदार अग्रवाल सकते में तो आ ही गया ,साथ ही ठेके हथियाने का मुकाबला और तेज हो गया. सकते में आए अग्रवाल बिछायत के संचालक कई अन्य हथकंडे अपना कर श्याम डेकोरेशन का टेंडर सम्बन्धी प्रस्तुत कागजात निकलवा रहा है.

बताया तो यह भी जा रहा है कि श्याम डेकोरेशन से सम्बंधित एक सफेदपोश सत्तापक्ष खेमे का है. जिसने उम्मीद जताई की इस बार यह ठेका उन्हें ही मिल सकता है. इससे अग्रवाल बिछायत के संचालक और सकते में आ गया है.

उल्लेखनीय यह है कि उक्त ठेके मामले में काफी कला-पीला कर सरकारी राजस्व को चूना लगाया जाता है. लगभग ४०% की राशि कमिशन के तहत बांटी जाती है. क्यूंकि ठेकेदार का सम्पूर्ण बिछायत खुद का होने से लाभ का बड़ा हिस्सा उन्हें भी हासिल हो जाता था. अब देखना यह है कि इस बार कांटे की टक्कर में उक्त ठेका किसके हाथ लगता है.