Published On : Mon, Dec 8th, 2014

सावनेर : धुरखेड़ा बोरगाँव में किसान ने की आत्महत्या

 

  • कर्ज बाजारी व फसल नहीं होने से था परेशान
  • संकट में फंसा परिवार को आर्थिक सहायता देने की माँग

सावनेर (नागपूर)। यहाँ से 13 किमी की दूरी पर स्थित धुरखेड़ा बोरगाँव में एक कर्जदार किसान ने विष पीकर आत्महत्या करने की घटना 7 दिसम्बर को सुबह करीब 10 बजे के दरम्यान घटी. मातम से क्षेत्र में सन्नाटा छा गया है.

प्राप्त जानकारी के अनुसार, धुरखेड़ा बोरगाँव के 41 वर्षीय केशव जंगलू चौधरी नामक किसान किसी तरह अपने परिवार का भरण-पोषण कर रहा था. प्राकृतिक आपदाओं से घिर फसल नहीं होने से त्रस्त था. ऊपर से बैंकों-साहूकारों से कर्ज भी ले रखा था. इन सबके कारण वह कई दिनों से भारी तनाव से गुजर रहा था. अंतत: थक हार कर 7 दिसम्बर को सुबह 7:30 के करीब घर से खेत में जा रहा हूं कहकर निकल गया. खेत में पहुंचने के बाद उसने विषैली दवा पीकर वहीं सो गया. वहीं बाजू की खेत में काम कर रहे गुनवंता निंबालकर 10 बजे के करीब वहां पहुँचा. बेसुध पड़े केशव को देख उसकी सूचना परिवार वालों को दी. केशव के परिजनों ने तत्काल धापेवाड़ा स्थित सरकारी अस्पताल में उसे भर्ती कराया. डाक्टरों ने उपचार कर बचाने की कोशिश की लेकिन उसने दम आखिरकार तोड़ दिया.

कलमेश्वर पुलिस पंचनामा कर लाश पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया. इस मौत के बाद धुरखेड़ा बोरगाँव में मातम से सन्नाटा छा गया. मृतक केशव को पत्नी, दो पुत्र, बूढ़ा पिता है. परिवार का एकमात्र संरक्षक के चले जाने से परिवार भारी संकट में आ गया है. इसलिए गाँव के वरिष्ठ परिवार की आर्थिक सहायता के लिए सरकार से गुहार लगायी है.

Representational Pic

Representational Pic